113 स्थलों को ईको पर्यटन की दृष्टि से विकसित करेगी हिमाचल सरकार: जयराम
Thursday, October 18, 2018
Breaking News
Home » हिमाचल » 113 स्थलों को ईको पर्यटन की दृष्टि से विकसित करेगी हिमाचल सरकार: जयराम
113 स्थलों को ईको पर्यटन की दृष्टि से विकसित करेगी हिमाचल सरकार: जयराम

113 स्थलों को ईको पर्यटन की दृष्टि से विकसित करेगी हिमाचल सरकार: जयराम

मनाली। हिमाचल सरकार ने 113 स्थलों को ईको पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के लिए चयनित किया है। इनमें पांच स्थलों को सार्वजनिक निजी सहभागिता आधार पर, 16 को राज्य वन विभाग तथा 47 स्थलों को हि.प्र. राज्य वन निगम को इनमें पारिस्थितिकीय पर्यटन गतिविधियां शुरू करने के लिए दिया गया है। यह बात मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज कुल्लू जिले के मनाली स्थित अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण एवं सम्बद्ध खेलें संस्थान में राज्य वन विभाग तथा हिमाचल प्रदेश ईको पर्यटन समिति द्वारा ‘हिमाचल प्रदेश में ईको पर्यटन की सम्भावनाओं’ पर आयोजित दो दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन का उदघाटन करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा प्रकृति के आंचल में सैलानियों के ठहरने के लिए लॉग-हट्स का निर्माण कर 25 नए गंतव्यों को विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान वित्त वर्ष के दौरान तीन ईको पर्यटन हब्स को विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि ईको पर्यटन समिति, पर्यटन विभाग तथा पर्वतारोहण मनाली के समन्वय से 10 स्थानों को साहसिक पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 31 ईको पर्यटन सर्किट तैयार किए गए हैं और इन्हें स्वीकृति के लिए केन्द्र को भेजा जाएगा।

जय राम ठाकुर ने कहा कि ईको पर्यटन गतिविधियां न केवल लोगों को प्रकृति के साथ जोड़ती है, बल्कि राज्य के युवाओं के लिए रोज़गार और स्वरोज़गार की मुख्य सृजक भी साबित हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में प्राकृतिक पार्कों तथा हर्बल बागानों को विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में ईको पर्यटन गतिविधियां शुरू करने के लिए 50 वन विश्राम गृहों को उपयोग में लाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ईको पर्यटन को ग्रामीण जीवन, संस्कृति तथा परम्पराओं के साथ जोड़ने के प्रयास किए जाएंगे। इससे न केवल राज्य के अनछुए , अज्ञात और अविकसित गंतव्यों को प्रोत्साहन मिलेगा, बल्कि राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने में भी मदद मिलेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share