Home » Photo Feature » आंखों पर भारी शिक्षा: जरूरी है उपचार और एहतियात भी
dry eye syndrome and its remedies

आंखों पर भारी शिक्षा: जरूरी है उपचार और एहतियात भी

(पूजा यादव)

कोरोना काल की वजह से अब स्थिति ऐसी बन गई है जब बच्चों समेत सभी डिजिटल प्रणाली पर आने को मजबूर हो गए हैं। जहां एक ओर लॉकडाउन के चलते बच्चों की ऑनलाइन क्लासेज की वजह से उन्हें देर देर तक मोबाइल लैपटॉप पर अपना समय बिताना पड़ता है, तो वहीं दूसरी ओर वर्तमान शिक्षण संस्थानों के बंद होने व कार्यालय में आधे स्टाफ को घर से काम करने की वजह से यह रोग न केवल बच्चों बल्कि ऑनलाइन पढाने वाले स्टाफ पर भी पड़ रहा है। आंखों में सूखेपन की शिकायतें ज्यादा सामने आ रही है। 

मोबाइल कंपनीज के डेटा के आंकड़े बताते हैं कि लॉकडाउन के दौरान लोगों के मोबाइल फोन का औसत स्क्रीन टाइम कई गुना बढ़ गया है। इसका नतीजा यह हुआ कि कई घंटे तक मोबाइल, कंप्यूटर स्क्रीन और टेलीविजन देखते रहने के कारण शिक्षकों और छात्रों की आंखों में थकान और सूखेपन की बीमारी बढ़ गई है। लॉकडाउन खुलने के बाद कॉर्निया केंद्र में आने वाले मरीजों की संख्या में ड्राई आई सिंड्रोम के मामले अधिक देखने को मिले हैं। एक मई से जून तक के आंकड़ों को देखने से पता चलता है कि उनके पास आए कंप्यूटर विजन सिंड्रोम और ड्राई आई सिंड्रोम के मामलों में 20% बढ़ोतरी हुई है।

डॉ. अशोक शर्मा के मुताबिक लगातार कंप्यूटर- लैपटॉप पर काम करते रहने वालों में कंप्यूटर विजन सिंड्रोम (सीवीएस) के मामले पहले भी देखने को मिले हैं। ऐसे मामलों में आंखों में थकान हल्की सूजन भी हो जाती है। इसके अलावा आंखों में नमी कम हो जाने के केस भी आते हैं, जिनमें से अधिकतर मोबाइल फोन के अत्यधिक इस्तेमाल की वजह से ही होते हैं। इस तरह आंखों में नमी की मात्रा कम हो जाने को मेडिकल भाषा में जीरोफ्थैल्मिया कहते हैं। मोबाइल फोन व कंप्यूटर पर अधिक देर तक नजरें गड़ाए रखने से आंखों में सूखापन बढ़ जाता है। इसके कारण आंख के कॉर्निया में जख्म भी हो सकता है और कॉर्निया खराब होने से आंखों की रोशनी भी जा सकती है।

ड्राई आई सिंड्रोम के घरेलु इलाज :

ग्रीन टी

ग्रीन टी

ग्रीन टी आज के समय में कई रोगों का रामबाण इलाज है और वैसे ही ये आंखों के सूखेपन को भी दूर करता है और उनमें नमी बनाए रखता है। ग्रीन टी आंखों के तनाव को भी कम करता है। रोजाना सुबह के समय एक कप ग्रीन टी का सेवन आपकी आंखों के लिए फायदेमंद है और ड्राई आई की समस्या दूर करता है।

आंखों को सेंके

आंखों को सेंके

एक कपड़े को हल्का गर्म करें और इससे आंखों को सेकें। इससे खुजली, जलन, और सूजन के आलावा आंखों का सूखापन भी दूर होने लगेगा।

ओमेगा 3 वाले फूड्स का सेवन

ओमेगा 3 वाले फूड्स का सेवन

डॉक्टर्स का कहना है ओमेगा 3 वाले आहार हमारे आंखों की सूखेपन को दूर करके उन्हें स्वस्थ बनाते हैं और अधिक गुणवत्ता वाले आंसुओ में व्रद्धि करते हैं। इसके लिए आप पिसी हुई अलसी, ताड़ का तेल, सोयाबीन का तेल, मछली, अखरोट, और अण्डों का सेवन करें जिससे आपको पर्याप्त मात्रा में ओमेगा 3 एसिड मिलेगा।

अधिक मात्रा में पेय पदार्थ लें

अधिक मात्रा में पेय पदार्थ लें

अपनी आंखों का सूखापन दूर करने के लिए अधिक मात्रा में पेय पदार्थ जैसे पानी, जूस, दूध आदि का सेवन करें जिससे आपकी यह समस्या धीरे-धीरे दूर होने लग जाएगी।

कमरे का वातावरण नम बनाए रखें

कमरे का वातावरण नम बनाए रखें

जिस कमरे में बैठे वहां का वातावरण नम बनायें रखें और अधिक तापमान ना रखें। वातावरण के नम होने से हमारे आंखों में सूखापन नहीं होता और आंखों में नमी का संचरण होता है।

आंखों को धोएं

आंखों को धोएं

आंखों को सूखेपन से बचाने के लिए आप इन्हें हर दो घंटे में धोते रहे और ऐसा आप इनमें छींटे मार कर करें। छींटो से आंखे धोएंगे तो इनका व्यायाम भी होता रहेगा जिससे आपकी आंखों का सूखापन दूर होगा और इस प्रक्रिया से ये स्वस्थ भी बनेंगे।

विटामिन सी लें

विटामिन सी लें

आंखों के सभी रोगों के लिए विटामिन सी बहुत फायदेमंद होता है। विटामिन सी युक्त आहार जैसे की नीम्बू, संतरा, ब्रोकली आदि का सेवन अधिक करें जिससे सूखापन दूर होगा और नमी आएगी।

ड्राई आई सिंड्रोम से कुछ सावधानियां:

अधिक देर तक टीवी ना देखें, अगर देंखें भी तो दूर से

कंप्यूटर, मोबाइल, लैपटॉप  में लगातार काम करने से बचें और हर आधे घंटे के बाद एक दो मिनट का गैप लें

सिगरेट शराब आदि का सेवन बिलकुल ना करें

Check Also

देशभर में 1,321 कोरोना टेस्ट लैब

नयी दिल्ली 30 जुलाई: देशभर में काेरोना वायरस कोविड-19 की जांच करने वाली लैब की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel