RBI की क्रेडिट पॉलिसी के बाद HDFC और ICICI बैंक ने बढ़ाई एफडी पर ब्याज दरें
Wednesday, December 19, 2018
Breaking News
Home » व्यापार » RBI की क्रेडिट पॉलिसी के बाद HDFC और ICICI बैंक ने बढ़ाई एफडी पर ब्याज दरें
RBI की क्रेडिट पॉलिसी के बाद HDFC और ICICI बैंक ने बढ़ाई एफडी पर ब्याज दरें

RBI की क्रेडिट पॉलिसी के बाद HDFC और ICICI बैंक ने बढ़ाई एफडी पर ब्याज दरें

नई दिल्ली। पिछले हफ्ते भारतीय रिजर्व बैंक (आर.बी.आई.) की तरफ से पॉलिसी दरों में 25 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी के बाद बैंकों ने ब्याज दरें बदलना शुरू कर दिया। देश के सबसे बड़े बैंक एचडीएफसी बैंक ने मध्यम अवधि के लिए किए जाने वाले फिक्स डिपॉजिट (एफडी) की दरों में बढ़ोतरी की है। छोटी अवधि के लिए दरों में किसी तरह का बदलाव नहीं हुआ है। एचडीएफसी बैंक की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक 6 अगस्त यानि आज से दरों में हुआ बदलाव लागू हो गया है।

एचडीएफसी बैंक के मुताबिक 6 महीने से लेकर 9 महीने तक के एफडी पर सामान्य नागरिकों के लिए ब्याज की दर को सालाना 6.35 प्रतिशत से बढ़ाकर 7 प्रतिशत कर दिया गया है जबकि वरिष्ठ नागरिकों के लिए यह दर 7.25 प्रतिशत की गई है। इसी तरह 9 महीने से लेकर 1 वर्ष तक के एफडी पर ब्याज की दर सामान्य नागरिकों के लिए 6.40 प्रतिशत की जगह अब 7 प्रतिशत और वरिष्ठ नागरिकों के लिए 6.9 प्रतिशत की जगह 7.5 प्रतिशत होगी। 1 साल से लेकर 2 वर्ष तक के एफडी पर ब्याज की दर को सामान्य नागरिकों के लिए 7.25 प्रतिशत और वरिष्ठ नागरिकों के लिए 7.75 प्रतिशत कर दिया गया है।

इसी तरह 2 वर्ष से लेकर 5 वर्ष तक की सभी एफडी अवधियों के लिए ब्याज की दर को सामान्य नागरिकों के लिए 7.10 प्रतिशत और वरिष्ठ नागरिकों के लिए 7.60 प्रतिशत किया गया है।एचडीएफसी ने एफडी के साथ आरडी दरों में भी बदलाव किया है, 9 महीने की अवधि से लेकर 5 वर्ष अवधि तक के क्रष्ठ पर दरों में बदलाव किया गया है। दरों में हुआ बदलाव इस तरह से है एचडीएफसी बैंक की तरह आईसीआईसीआई बैंक ने भी कुछ अवधियो के लिए स्नष्ठ की दरों में बदलाव किया है, बैंक की तरह से दी गई जानकारी के मुताबिक दरों में बदलाव 4 अगस्त से लागू हो चुका है और यह बदलाव उन जमा योजनाओं पर है जिनमें निश्चित अवधि से पहले पैसा निकालने की इजाजत नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share