Home » हरियाणा » कैथल में राजनीतिक हलचल शुरू, दिसंबर के सर्द महीने में सियासी पारा हुआ गर्म!

कैथल में राजनीतिक हलचल शुरू, दिसंबर के सर्द महीने में सियासी पारा हुआ गर्म!

 इनेलो-बसपा, राजकुमार सैनी के वर्कर सम्मेलन, सीएम के रोड शो के बाद अब केजरीवाल की होगी 15 को रैली

कैथल (कृष्ण प्रजापति)। कैथल जिले में राजनीतिक हलचल तेज हो चुकी हैं और दिसंबर महीने की सर्द ऋतु में राजनीतिक गर्मी बढ़ गई है। पिछले महीने जहां इनेलो बसपा कार्यकर्ता सम्मेलन के जरिए अभय चौटाला और बसपा नेताओं ने अपने कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोली तो वहीं गत दिनों मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी कैथल में रोड शो करके भाजपा को मजबूती देने का प्रयास किया है। इससे पहले गत 1 नवंबर को हरियाणा के कैबिनेट मंत्री कैप्टन अभिमन्यु और राज्यमंत्री नायब सैनी ने जिला स्तरीय रैली के माध्यम से भाजपा कार्यकर्ताओं को आगामी चुनाव के लिए तैयार रहने का संकेत दिया था।

इसके साथ साथ मुख्यमंत्री के दौरे के दिन ही इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला ने भी कैथल की 3 विधानसभाओं में जाकर कार्यकर्ताओं को आगामी 9 दिसंबर को जींद में होने वाली रैली का न्योता दिया था। कुल मिलाकर देखें तो कैथल में राजनीतिक पार्टियों ने डेरा डालना शुरू कर दिया है और सभी दलों के नेता यहां से सुरजेवाला गढ़ में सेंध लगाने का प्रयास कर रहे हैं। अब आगामी 15 दिसम्बर को दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल रैली करने जा रहे हैं जिसको लेकर कार्यकर्ताओं में उत्साह भी देखने को मिल रहा है और विभिन्न गांव में आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा पोस्टर अभियान भी चलाया हुआ है। जिले के अधिकतर गांवो में घरों के बाहर लगे आम आदमी पार्टी के होर्डिंग्स आम आदमी पार्टी की हरियाणा में बढ़ती सक्रियता को दिखा रहे हैं।

गत 28 नवंबर को भी लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के बैनर तले लोकसभा सांसद राजकुमार सैनी ने भी कैथल के उसी चंदाना गेट स्थित रामलीला मैदान में अपनी ताकत दिखाने का काम किया था। कैथल को राजनीतिक गढ़ बनाने में जुटे ये नेता अपनी-अपनी पार्टी का प्रचार तो कर ही रहे हैं, इसके साथ साथ अपने कार्यकर्ताओं को आगामी चुनाव में तैयार रहने का संदेश भी दे रहे हैं। अब देखना होगा कि कैथल में सुरजेवाला के किले में सेंध लगाने का प्रयास किस नेता या दल का सफल होता है अथवा रणदीप सुरजेवाला खुद विधानसभा को छो?कर लोकसभा में जाने की तैयारी में जुटे हुए हैं। फिलहाल कैथल जिले के हरेक चौक चौराहे, नुक्क? बैठकों में राजनीतिक चर्चाओं का बाजार गर्म है।

Check Also

हवस के भूखे भेडिय़ों का आखिर इलाज क्या है ?

सुमित्रा की रिपोर्ट आखिर हवस के भूखे भेडिय़ों का इलाज क्या है? इन दरिंदों को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel