Home » ब्रेकिंग न्यूज़ » कोरोना वायरस का साथ देने आया हंता वायरस, दोनो मिलकर करेंगे इंसानो का जीना हराम? चीन में इससे पहली मौत

कोरोना वायरस का साथ देने आया हंता वायरस, दोनो मिलकर करेंगे इंसानो का जीना हराम? चीन में इससे पहली मौत

{Written by Shiva Tiwari}

नई दिल्ली: अभी एक वायरस यानी कोरोना वायरस पर काबू भी नहीं पाया जा सका है और इस बीच एक नए वायरस की उत्पत्ति की खबर सामने आई है।खबर है कि कोरोना वायरस ने जिस प्रकार से चीन में उत्पन्न होकर यहां हजारों लोगों को मौत के घाट उतार दिया वहीं अब इसीप्रकार यहां एक नये किस्म के वायरस हंता वायरस ने दस्तक दे दी है।यहीं नही इस हंता वायरस ने दस्तक देते ही यहां एक यक्ति को लिगल लिया है।

बताया जाता है कि यह व्यक्ति यूनान प्रांत का है यह शाडोंग प्रांत में काम करता था।कोरोना के चलते काम बंद हो जाने से यह यक्ति अपने घर बस से सफर करते हुए आ रहा था जब यह अपने यथास्थान पहुँचा तो इसकी जांच की गई जांच के दौरान जांचकर्ताओं को इस व्यक्ति के कोरोना से संक्रमित होने की आशंका हुई जिसके बाद इसे फौरन अस्पताल ले जाया गया और जब यहां पर इसकी कोरोना को लेकर जांच की गई तो परिणाम चौकाने वाले थे यह व्यक्ति संक्रमण से पॉजिटिव तो था लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण से नहीं बल्कि हंता वायरस के संक्रमण से।

फिलहाल, डॉक्टर्स अब इस सोच में पड़ गए हैं कि एक कोरोना वायरस ने तो नाक में दम कर रखा है अब इसके साथ एक इस नए हंता वायरस के आ जाने से स्थिति क्या होगी कुछ नहीं कह सकते।

चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि हंता वायरस, कोरोना वायरस की तरह घातक नहीं है लेकिन ज्यादा लापरवाही पर जान यह भी ले सकता है।इसलिए सचेत रहना और सावधानी बरतना इसमे भी बेहद जरूरी है।चिकित्सा विशेषज्ञ का बताते हैंं कि 1993 में हंतावायरस संक्रमण का मामला अमेरिका में सामने आया था।जब इस बीमारी को लेकर अध्यन किया गया तो पता चला कि यह बीमारी चूहे और गिलहरी सेे फैली थी। चूहे ने खाने की चीज या कुछ और चीजें कुतर कर गिरा दी थी।जहां इसके संपर्क में जो भी लोग आए थे उन्हें हंतावायरस का संक्रमण हो गया था वैसे हंतावायरस संक्रमण के मामले बहुत कम आते हैं और इतने खतरनाक नहीं होते हैं।हालाँकि इसमें भी कोरोना की तरह ही फ्लू जैसे लक्षण और सांस लेने में दिक्कत होती है।फेफड़े में पानी भर जाता है।

आइए जानते हैं हंता वायरस के बारे में विस्तार से…

यह वायरस क्या होता है, कैसे फैलता है और इससे कैसे बचा जा सकता है… यह सब हम आपको बताने जा रहे हैं।

रिपोर्ट के अनुसार हंता वायरस हवा के रास्ते नहीं फैलता है, बल्कि यह व्यक्ति के चूहे या गिलहरी के संपर्क में आने से फैलता है। हंता वायरस चूहों और गिलहरी में होता है। इस वायरस के कारण चूहों और गिलहरी में कोई बीमारी नहीं होती, लेकिन इस वायरस के कारण इंसानों की मौत हो जाती है। सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक चूहों और गिलहरियों को घर से और अपनेआप से दूर रखें।

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशंस की रिपोर्ट के मुताबिक, ये वायरस अभी तक सिर्फ चीन और अर्जेंटीना में ही पाया गया है। चीन में भी फिलहाल इस वायरस से पहली मौत हुई है सीडीसी के मुताबिक चूहों और गिलहरियों से दूरी बनाकर रखें।इस प्रकार से वायरस का संक्रमण नहीं होगा।सबसे ज्यादा इस बात का ध्यान रखें कि जिस चीज को चूहों और गिलहरियों द्वारा छुआ गया हो उसे आप छूने से बचें।इस लिहाज से इस बिमारी के खतरे आप बिल्कुल सेफ रह पाएंगे।

 

 

Check Also

एक्शन में पंजाब सरकार, जमातियों को 24 घंटे में खुद पे खुद सामने आने का अल्टीमेटम किया जारी

चंडीगढ़: देशभर में जमातियों की वजह से हुए कोरोना फैलाव को देखते हुए देश के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel