Home » पंजाब » कांग्रेसी विधायकों के परिवारों के बलिदानों स्वरूप पुत्रों को नौकरियाँ दीं – मुख्यमंत्री

कांग्रेसी विधायकों के परिवारों के बलिदानों स्वरूप पुत्रों को नौकरियाँ दीं – मुख्यमंत्री

अपने खोए हुए नायकों को पंजाब हमेशा याद रखेगा, शिरोमणि अकाली दल और आम आदमी पार्टी को भी ऐसे बलिदान देने वालों को नौकरियों की पेशकश

Gave jobs to sons as sacrifices: चंडीगढ़। दो विधायकों के पुत्रों को नौकरियाँ देने के लिए अपनी सरकार के फ़ैसले के पक्ष में बोलते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज कहा कि यह कदम उनके बुज़ुर्गों (दादा) द्वारा बलिदानों की मान्यता के तौर पर उठाया गया जिन्होंने मुल्क के लिए अपनी जान न्यौछावर की।

मुख्यमंत्री, मरहूम मिलखा सिंह के आवास के बाहर पत्रकारों के साथ अनौपचारिक बातचीत कर रहे थे जहाँ उन्होंने महान एथलीट को श्रद्धा के फूल भेंट किये। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जो भी अपने मुल्क के लिए बलिदान देता है, उसे कभी भी भुलाया नहीं जाना चाहिए। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि उनके परिवार इस घाटे की भरपाई किये जाने के हकदार हैं।

इस कदम के लिए सरकार की आलोचना करने पर शिरोमणि अकाली दल और आम आदमी पार्टी पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि ये पार्टियाँ भी ऐसे किसी नौजवानों, जिनके पिता या दादा ने मुल्क के लिए ऐसा बलिदान दिया हो, तो उनको भी सरकारी नौकरियाँ मुहैया करवाई जाएंगी। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि दरअसल, उन्होंने तो इन पार्टियों में से ऐसे कुछ व्यक्ति ढूँढने की कोशिश भी की परन्तु कोई भी नहीं मिला।

मुख्यमंत्री कादियाँ से विधायक फतेहजंग सिंह बाजवा के पुत्र अर्जुन प्रताप सिंह बाजवा को पंजाब पुलिस में इंस्पेक्टर (ग्रुप बी) के तौर पर और लुधियाना से विधायक राकेश पांडे के पुत्र भीष्म पांडे को नायब तहसीलदार के तौर पर सरकारी नौकरियाँ देने के फ़ैसले बारे किये गए सवाल का जवाब दे रहे थे। बीते दिन मंत्रीमंडल की मीटिंग के दौरान अर्जुन बाजवा और भीष्म पांडे के नामों को मंज़ूरी दी गई थी।

मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि ऐसे बलिदान देने वाले परिवार से आने वाले किसी भी व्यक्ति को नौकरी दी जायेगी। उन्होंने कहा कि पंजाब ने आतंकवाद का काला दौर झेला है जिसमें घटी भयानक हिंसा में 35000 बेकसूर लोगों की जान चली गई। उन्होंने जि़क्र करते हुए कहा कि लगभग 1700 पुलिस जवान भी मारे गए और इन लोगों को उनके स्मारकों पर जाकर श्रद्धाँजलि देना ही काफ़ी नहीं है बल्कि राज्य को इन परिवारों को हुए नुकसान की पूर्ति के लिए और भी बहुत कुछ किये जाने की ज़रूरत है।

मुख्यमंत्री ने कहा, “हम उनके बलिदानों को बेकार नहीं जाने दे सकते।” उन्होंने आगे कहा कि देश के लिए ख़ून बहाने वाले लोगों को पंजाब सलाम करता है और उनकी सरकार राज्य की अमन-शान्ति और सद्भावना के लिए अपना योगदान देने वालों को मान्यता देना जारी रखेगी।

Check Also

मां-बेटी का रिश्ता हुआ तार-तार: नाबालिग लडक़ी के साथ मां दोस्त के बेटे से करवाती थी दुष्कर्म, तीन के खिलाफ मामला दर्ज

मां-बेटी का रिश्ता हुआ तार-तार: नाबालिग लडक़ी के साथ मां दोस्त के बेटे से करवाती थी दुष्कर्म, तीन के खिलाफ मामला दर्ज

बेटी ने अपने मामा की लडक़ी से मदद की लगाई गुहार, मां गिरफ्तार Minor girl …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel