तय हो गया अंडे का फंडा क्योंकि खुल गया राज पहले मुर्गी आई या अंडा - Arth Parkash
Saturday, September 22, 2018
Breaking News
Home » Photo Feature » तय हो गया अंडे का फंडा क्योंकि खुल गया राज पहले मुर्गी आई या अंडा
तय हो गया अंडे का फंडा क्योंकि खुल गया राज पहले मुर्गी आई या अंडा

तय हो गया अंडे का फंडा क्योंकि खुल गया राज पहले मुर्गी आई या अंडा

आखिरकार राज पर से पर्दा हट गया और ये तय हो गया कि मुर्गी और अंडे में पहले कौन आया। वैज्ञानिकों का कहना है सदियों पुराने सवाल का नवीनतम जवाब क्वांटम फिजिक्स से मिला है।न्यूयार्क पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक प्राचीन काल से यूनान के विचारकों के बीच बहस का मुद्दा रहा है एक सवाल कि पहले मुर्गी आई या अंडा और आज तक इस पर माथापच्ची होती आई है। जब किसी ने कहा कि मुर्गी पहले आई तो पूछा गया कहां से क्योंकि बिना अंडे के मुर्गी तो आ नही सकती, और अगर कहा गया कि अंडा आया तो भी वही सवाल की मुर्गी के बिना अंडा कहां से आया।

अब जाकर इस ऐतिहासिक समस्या का एक जवाब सामने आया है। इस बारे में ऑस्ट्रेलिया की क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों और फ्ऱांस के एनईईएल संस्थान ने दावा किया है कि क्वांटम फिजिक्स की मदद से यह रहस्य खुल गया है। वैज्ञानिकों के अनुसार क्वांटम फिजिक्स कहती है कि पहले अंडा और मुर्गी दोनों ही आए थे। क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी में एआरसी सेंटर ऑफ एक्सिलेंन्स फॉर क्वांटम इंजीनियरिंग सिस्टम के भौतिक विज्ञानी जैकी रोमेरो ने स्पष्ट किया कि क्वांटम मैकेनिक्स कहती है कि ऐसा किसी नियमित रूप से तय क्रम के बिना हो सकता है। यानि शोध ये कहता है कि दोनों ही चीजें पहले हो सकती हैं, और इस अध्ययन को ‘अनिश्चितता के कारणों का क्रमÓ कहा जाता है, हालांकि ये आम तौर पर लागू होने वाला नियम नहीं है।

वैज्ञानिकों ने इसे समझने के लिए फोटोनिक क्वांटम स्विच कांफिगरेशन का प्रयोग किया। इस शोध में दो घटनाओं का क्रम जिस पर निर्भर करता है उसे कंट्रोल कहते हैं। जैसे कंप्यूटर में बिट्स होता है, जिसकी वैल्यू या मान 0 या 1 होता है। यदि कंट्रोल वैल्यू 0 है तो ‘बी’ से पहले ‘ए’ होता है और यदि कंट्रोल वैल्यू एक है तो ‘ए’ से पहले ‘बी’ होगा।

क्वांटम फिजिक्स में सुपरपोजिशन के अनुसार , मतलब एक के ऊपर दूसरी चीज को बैठाना, बिट्स हो सकते हैं, जिसका मतलब है कि उनका मान एक ही समय में 0 और 1 होता है। हम मान सकते हैं कि इस नियम के तहत एक निश्चित अर्थ में बिट्स की वैल्यू अपरिभाषित है। अब कंट्रोल के अनिश्चित मान की वजह से जो क्रम तय किया जाता है, उसे ‘ए’ और ‘बी’ घटनाओं के बीच का अपरिभाषित क्रम माना जाता है। भले ही सामान्य रूप से ये विश्वास किया जाता है कि ‘ए’ और ‘बी’ के बीच कौन पहला है ये सत्य एक ही हो सकता है पर क्वांटम फिजिक्स में ये दोनों ही पहले हो सकते हैं और उसे सही ही माना जायेगा। जिसे अपरिभाषित अस्थिर क्रम कहा जाता है। बेशक परिवर्तन की कई तरह का हो सकता है लेकिन इस रूपांतरण और ध्रुवीकरण विकल्प आपसी संबंध की एक सीमा होती है।

शोध के दौरान इसी नियम को तोड़ दिया गया और तब यह नतीजा आया कि ‘ए’ और ‘बी’ के बीच एक अनिश्चित क्रम है। इस आधार पर सोसाइटी ऑफ अमरीकन फिजिक्स मैगजीन फिजिकल रिव्यू जर्नल-अमरीकन फिजिकल सोसाइटी में प्रकाशित इस शोध में ये बताया गया कि पहली बार अंडा और मुर्गी दरसल दोनों ही आये थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share