Home » उत्तर प्रदेश » लोन पाने में असफल रहा यह किसान, पूरे इलाके में लगा दिए ‘किडनी बिकाऊ है’ के पोस्‍टर
farmer want to sale kidney after bank denies loan

लोन पाने में असफल रहा यह किसान, पूरे इलाके में लगा दिए ‘किडनी बिकाऊ है’ के पोस्‍टर

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एक किसान डेयरी खोलना चाहता था, इसके लिए उसने बैंक में बिजनेस लोन की अर्जी लगाई पर उसे लोन नहीं मिल पाया|किसान ने बैंक से लोन पाने का भर्सक प्रयास किया लेकिन वह लोन पाने असफल ही रहा| वहीँ, जब किसान की लोन पाने की सारी उम्मीदे टूट गईं तो उसने एक खास हथकंडा अपनाया|इस हथकंडे के तहत उसने अपनी किडनी बेचने का मन बनाया और पूरे इलाके में ‘किडनी बिकाऊ है’ के पोस्‍टर लगा दिए| उधर किसान ने यह दावा किया कि दुबई और सिंगापुर से कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर उसकी किडनी खरीदने में दिलचस्पी दिखाई है।

इस मामले में ज्यादा जानकारी करने पर पता चला कि किसान का नाम राजकुमार(30) है और वह अपने परिवार के भरण पोषण के लिए बिजनस शुरू करना चाहतें हैं। लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद उन्हें बैंक से लोन नहीं मिल रहा है। इसे लेकर क्षुब्ध रामकुमार ने किडनी बिकाऊ है’ के पोस्‍टर सहारनपुर में लगवा दिए|इतना ही नहीं उन्होंने सोशल मीडिया पर भी ऐलान कर दिया कि वह किडनी बेचना चाहते हैं।

रामकुमार ने बताया उन्होने प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत डेयरी फार्मिंग की ट्रेनिंग ली थी। जिसके बाद वह अपनी डेयरी खोलना चाहा रहे हैं|इसके लिए वह बैंक से लोन पाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन उन्हें लोन मिलने की कोई आश नहीं दिखाई दे रही है|

उधर, पोस्टर और सोशल मीडिया पर फजीहत के बीच यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के सहारनपुर के मुख्य मैनेजर ने कहा, ‘कुमार को लोन इसलिए नहीं दिया गया कि बैंक के जिस ब्रांच में वह गए थे, उस पर करीब 40 करोड़ का एनपीए है। हालांकि इसके बावजूद मैं संबंधित ब्रांच से उनके आवेदन पर पुनर्विचार के लिए कहूंगा। मैं खुद भी इस मामले में देखूंगा कि मैं किस तरह से उनकी सहायता कर सकता हूं।’

Check Also

पेंशन के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटा रहे 2004 से पहले चयनित होने वाले कर्मियों को केंद्र सरकार का तोहफा

पेंशन के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटा रहे 2004 से पहले चयनित होने वाले कर्मियों को केंद्र सरकार का तोहफा

नई दिल्‍ली। केंद्र सरकार ने अपने उन कर्मचारियों को एक बड़ी खुशखबरी दी है जो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel