Home » हेल्थ » जानें कोरोना से बचने के जोरदार तरिके

जानें कोरोना से बचने के जोरदार तरिके

Coronavirus ने सभी लोगों के मन में डर का माहौल पैदा कर दिया है। हर कोई इस वायरस से बचने के उपाय अपनाना चाहता है लेकिन डर का माहौल इतना है कि हल्‍की खांसी या जुकाम में भी लोग दहशत में आ रहे हैं। क्योंकि कोरोना वायरस के लक्षण भी कॉमन कोल्ड जैसे ही हैं, सर्दी, नाक बहना, खांसी, बुखार, आदि इस वजह से भी लोगों के लिए इस बीमारी को पहचानना मुश्किल हो रहा है। ऐसे में बेहद जरूरी है कि घबराने और पैनिक होने की बजाए आप जागरुक बनें। वायरस से बचने के लिए जो जरूरी काम करना है उसके बारे में हम आपको यहां बता रहे हैं…

हाथ धोइए क्योंकि इसी से होगा बचाव

हाथ धोना कोरोना वायरस को भगाने का सबसे आसान तरीका है। विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO और सभी बड़े वैज्ञानिक बार बार यही बात कह रहे हैं कि कोरोना वायरस को दूर भगाने के लिए अपने हाथों को अच्छी तरह से साफ करें और बेसिक हाइजीन का पूरा ख्याल रखें। दिनभर में जितनी बार हो सके हाथों को साबुन-पानी से अच्छी तरह से धोएं। अगर पानी से हाथ धोना संभव न हो तो ऐल्कॉहॉल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें जिसमें करीब 70 प्रतिशत ऐल्कॉहॉल हो।

पब्लिक ट्रांसपोर्ट में सफर करते वक्त बरतें सावधानी

पब्लिक ट्रांसपोर्ट खासकर मेट्रो और बसों में सफर कर रहे हैं तो अपने चेहरे को मास्क से ढक कर रखने की कोशिश करें। सामान्य सर्जिकल मास्क आपको वायरस से नहीं बचा सकता इसलिए एन95 या एन99 मास्क का इस्तेमाल करें। अगर आपके पास मास्क नहीं है तो किसी सर्दी-खांसी वाले व्यक्ति के आसपास खड़े होने से बचें।

दूसरों से हाथ मिलाने से बचें

ज्यादातर वायरस हाथों से ही फैलते हैं। अगर आपके हाथ गंदे हैं और आप किसी दूसरे व्यक्ति से अपना हाथ मिलाते हैं तो आपके गंदे हाथों में मौजूद वायरस दूसरे व्यक्ति के हाथ तक पहुंच जाते हैं। लिहाजा इस वक्त जब कोरोना वायरस का डर देशभर में फैला हुआ है, बेहतर होगा कि आप किसी से हाथ मिलाने की बजाए उन्हें दूर से ही नमस्ते करें। ऐसा करने से आप वायरस से भी बचे रहेंगे।

​सोशल गैदरिंग और शादी-पार्टी में जाने से बचें

कोरोना वायरस का फिलहाल कोई इलाज या टीका मौजूद नहीं है इसलिए इस वायरस से बचना ही सबसे बेहतर बचाव का तरीका है। लिहाज आपने देखा होगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी लोगों से यही अपील कि है कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लोग किसी भी तरह की बड़ी सोशल गैदरिंग में जाने से बचें। डॉक्टर भी सलाह दे रहे हैं कि शादी पार्टियों और फैमिली गेट टु गेदर करने से बचें ताकि वायरस के फैलने के खतरे से बचा जा

भीड़भाड़ वाली जगह जैसे- मॉल या सिनेमा जाने से बचें

मॉल और सिनेमा हॉल में रोजाना सैकड़ों लोग आते हैं। इनमें से कौन वायरस से संक्रमित है ये बताना मुश्किल है। ऐसे में डॉक्टर भी यही सलाह दे रहे हैं कि कोरोनो वायरस से बचने के लिए इस वक्त मॉल और सिनेमा हॉल में न जाएं।

एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन जाने से बचें

डॉक्टरों की सलाह है कि अब जब देश में कोरोना वायरस के मामले इतनी बड़ी तादाद में सामने आ रहे हैं, एयरपोर्ट्स और रेलवे स्टेशन जहां भीड़ भाड़ बहुत अधिक होती है और दूसरे शहरों और देशों से लोग आते हैं, वहां जाने से बचना ही सही कदम होगा। इन जगहों पर तभी जाएं जब जाना बेहद जरूरी हो। साथ ही इन जगहों पर जाएं तो एक फेस मास्क और हैंड सैनिटाइजर साथ रखें ताकि आप अपना ख्याल रख सकें।

​लिफ्ट का बटन और दरवाजों का हैंडल न पकड़ें

यह तरीका भी कोरोना वायरस से बचने का बेहद आसान तरीका है। लिफ्ट के बटन, पब्लिक प्लेस पर लगे दरवाजे और टॉइलट के दरवाजों के नॉब और हैंडल, सबसे ज्यादा संक्रमित होते हैं। ऐसे वक्त में जब देश में कोरोना वायरस फैलने की आशंका है, आपको इन्हें पकड़ने में सतर्कता बरतने की जरूरत है। क्या आप जानते हैं कोरोना वायरस किसी भी स्टील के हैंडल या लिफ्ट के बटन में सबसे ज्यादा दिन जिंदा रहता है? लिहाजा कोशिश करें लिफ्ट के बटन को कोहनी से प्रेस करें। अगर आपने इन्हें छू भी लिया तो जल्द से जल्द हाथ को साबुन पानी से धो लें या हैंड सैनिटाइजर से हाथों को साफ कर लें।

आंख, नाक और मुंह में हाथ लगाने से बचें

कोरोना वायरस संक्रमण से बचने का बेहद आसान तरीका यही है कि आप बार-बार अपनी नाक, आंख और मुंह में हाथ लगाने से बचें। दरअसल अगर आपने किसी संक्रमित जगह को छू लिया हो तो और उसके बाद आप अपने चेहरे को हाथ लगाएंगे तो जाने अनजाने आप खुद ही उस वायरस को शरीर में प्रवेश करा सकते हैं। इसलिए डॉक्टर सलाह देते हैं कि अपने फेस को सबसे ज्यादा सुरक्षित रखें। गंदे हाथों से अपनी आंख, नाक और मुंह को बिलकुल न छूएं।

कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण के चलते ज्यादातर कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम (WFH)दे दिया है। तो जिन इंडस्ट्रीज में यह संभव नहीं था, उन्होंने अपने कर्मचारियों को लीव पर भेज दिया है। अब जरूरी है यह जानना कि आखिर आप घर में रहकर अपनी इम्यूनिटी कैसे बढ़ा सकते हैं…

प्रोटीन डायट से भरपूर नाश्ते के फायदे

नाश्ते में प्रोटीन डायट लें- प्रोटीन से हमारे शरीर को L-Arginine अमीनो एसिड मिलता है, जो हमारे शरीर में हेल्पर टी-सेल्स को जनरेट करने में मदद करता है। ये टी-सेल्स हमारी रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ानेवाली सेल्स को एनर्जी देती हैं। आप नाश्ते में दलिया, उबली हुई दालों की सलाद, साबुत अनाज और स्प्राउट्स खा सकते हैं

ऐसे काम करती हैं टी-सेल्स

L-Arginine अमीनो एसिड से बनने वाली हेल्पर टी-सेल्स ही हमारे शरीर में प्रवेश कर चुके किसी वायरस या बैक्टीरिया से सबसे पहले मिलती हैं। ये उस वायरस को ऑब्जर्व करती हैं और उसका एक तरह का ब्लू प्रिंट तैयार करती हैं। इसके बाद इम्यूनिटी सेल्स को वायरस का ब्लू प्रिंट देती हैं और उन्हें यह बताने का काम करती हैं कि शरीर की रक्षा के लिए किस तरह की ऐंटिबॉडीज बनाने की जरूरत है।

कुछ देर धूप में जरूर बिताएं

घर की छत या बालकनी में धूप के वक्त कुछ समय जरूर बिताएं। इस दौरान आप अपनी पंसद की किताबे पढ़ सकते हैं या चहलकदमी कर सकते हैं। धूप में वक्त बिताना इसलिए जरूरी है क्योंकि धूप हमारे शरीर में मौजूद इंफेक्शन से फाइट में मदद करनेवाली टी-सेल्स को एनर्जी देने का काम करती है।

मेडिटेशन करें और खुश रहें

मेडिटेशन करने से हमारा ब्रेन शांत रहता है और हैपी हॉर्मोन्स का प्रॉडक्शन बढ़ता है। ये हॉर्मोन्स हमारे शरीर की अन्य कोशिकाओं को स्ट्रेस फ्री करने में मदद करते हैं, जिससे शरीर अंदर से मजबूत बनता है और इम्यून सेल्स को वायरस से प्रभावित बॉडी पार्ट्स को पहचानने में आसान होती है। साथ ही इम्यून सेल्स पूरी पॉवर के साथ उस वायरस पर अटैक कर पाती हैं।

इस तरह खुश रहने का प्रयास करें

स्ट्रेस फ्री रहना कई तरीकों से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। इसके लिए आप डांस, म्यूजिक, मेडिटेशन, भजन-कीर्तन और पसंदीदा किताबों की मदद ले सकते हैं। खुश रहने की अधिक से अधिक कोशिश करें। क्योंकि खुश रहने से हमारे शरीर में एंडोर्फिन का प्रॉडक्शन बढ़ता है, जो हमें रिलैक्स करता है। जब शरीर रिलैक्स होता है तो इम्यूनिटी अपने आप बढ़ जाती है।

योग और एक्सर्साइज करें

कई स्टडीज में यह बात साबित हो चुकी है कि जो लोग सप्ताह में 5 से 6 दिन एक्सर्साइज करते हैं, उन्हें कोल्ड और सोर थ्रोट होने के चांस उन लोगों की तुलना में 50 प्रतिशत तक कम हो जाते हैं, जो लोग एक्सर्साइज नहीं करते हैं। एक्सर्साइज से हमारे शरीर का इम्यूनिटी सिस्टम बूस्ट होता है और तेजी से ब्लड सेल्स (WBC)बनाता है। ये ब्लड सेल्स शरीर में पहुंचे वायरस को मारने का काम करती हैं।

8 से 9 घंटे की नींद लें

नींद हमारे शरीर को इम्यून सेल्स के डिस्ट्रिब्यूशन में मदद करती है। यानी नींद के वक्त हमारे इम्यूनिटी सिस्टम के लिए इंफेक्शन वाली जगह खोजकर वहां इम्यून सेल्स को पहुंचाना आसान हो जाता है। फिर ये इम्यून सेल उन वायरस को खत्म करने का काम करती हैं। इस तरह से नींद शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करती है।

पूरी नींद के हैं ये भी फायदे

नींद हमारे शरीर को इंफेक्शन के हिसाब से लड़नेवाली इम्यून सेल्स के प्रोडक्शन में मदद करती है। यानी जो वायरस या बैक्टीरिया हमारे शरीर में एंट्री ले चुका है, उसे खत्म करने के लिए किस तरह की ऐंटिबॉडीज का निर्माण शरीर को करना चाहिए, यह पहचानने में नींद बहुत मदद करती है।

Check Also

ईद की दावत के बाद सता रही है वजन बढ़ने की चिंता? फॉलो करें ये टिप्स

त्योहारों के समय लोग पकवानों और मिठाइयों के साथ ढेर सारी कैलोरी कंज्यूम कर लेते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel