Home » संपादकीय » कुरूक्षेत्र की धरती से मोदी की महाभारत शुरू

कुरूक्षेत्र की धरती से मोदी की महाभारत शुरू

वर्ष 2014 में लोकसभा चुनाव का आगाज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणा की धरती से ही किया था। अब चुनाव से कुछ दिन पहले उन्होंने फिर हरियाणा की धरती को ही इसके लिए चुना। कुरूक्षेत्र से पूरे हरियाणा में विकास और बेहतरीन चिकित्सा सेवाओं का सूत्रपात करने वाले प्रधानमंत्री मोदी ने जहां चुनावी रणभेरी बजा दी है वहीं विरोधियों को भी चेता दिया कि जो भ्रष्ट है, केवल उन्हें मोदी से कष्ट है। गौरतलब है कि मोदी ने इस बात को इंगित भी किया है कि पिछले लोकसभा चुनाव में उनकी पहली जनसभा यही प्रदेश था। उन्होंने कहा कि जब 2014 में मुझे प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया गया था, उस समय हरियाणा की धरती रेवाड़ी से देश का आशीर्वाद मिलने की शुरूआत हुई थी। अब इसी धरती से माताओं का आशीर्वाद ले रहा हूं। हालांकि प्रधानमंत्री मोदी ने इस अवसर पर हरियाणा को 4184 करोड़ रूपये की छह सौगात प्रदान की हैं। लेकिन इससे बढ़कर यह हुआ है कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल को मोदी मजबूत कर गए।

किसी मुख्यमंत्री के लिए जोकि चुनावी रणभूमि के लिए तैयार हो रहा हो, एक प्रधानमंत्री का समर्थन और उसका विश्वास जीतना बेहद अहम बात है। कुरूक्षेत्र में समारोह के दौरान जब मुख्यमंत्री मनोहर लाल अपनी सरकार की ओर से प्रदेश में किए गए कार्यों का ब्योरा पेश कर रहे थे तो प्रधानमंत्री मोदी ने बार-बार ताली बजा कर उनका स्वागत किया। वहीं जब प्रधानमंत्री की बोलने की बारी आई तो उन्होंने कहा कि वे हरियाणा की तरक्की के आंकड़े जानकर अभिभूत हैं। गौरतलब है कि पांच शहरों में सीधे चुनाव के दौरान विपक्ष को बुरी तरह से मात देकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जहां अपनी संगठन क्षमता का परिचय दिया है, वहीं जींद उपचुनाव में भी कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दलों को हराने में उनके कुशल दांवपेच का लोहा भाजपा हाईकमान ने माना है। यही वजह है कि प्रधानमंत्री मोदी जब हरियाणा आए तो वे मनोहर लाल के इस करिश्मे से अछूते नहीं रहे। उन्होंने बेशक हरियाणा को कुछ नया नहीं दिया लेकिन पहले से चल रही योजनाओं को मूर्त रूप देकर प्रदेश के लोगों को गतिमान कर दिया है।

गौरतलब है कि देश का पहला आयुष विश्वविद्यालय जहां कुरूक्षेत्र में तैयार होगा, वहीं करनाल में मेडिकल यूनिवर्सिटी का निर्माण किया जाएगा। इसके अलावा पंचकूला में नेशनल आयुर्वेद संस्थान बनाया जाएगा। इसके अलावा झज्जर के बाढ़सा में कैंसर इंस्टीच्यूट और फरीदाबाद में ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज व 500 बिस्तरों के अस्पताल का भी लोकार्पण किया गया है। वहीं रेवाड़ी के मनेठी में एम्स के निर्माण की घोषणा की। इनमें से 4 संस्थानों के मूर्त रूप लेते ही हरियाणा देश भर में चिकित्सा सेवाओं में अव्वल नंबर पर आ जाएगा। वास्तव में ठोस विकास इसी का नाम है, जब चिकित्सा सुविधाएं आपके दरवाजे पर उपलब्ध होंगी। इन संस्थानों के निर्माण से न केवल युवाओं को रोजगार प्राप्त होगा, अपितु अन्य संसाधनों के इस्तेमाल में आने से आर्थिक तरलता भी बढ़ेगी।

मालूम, विपक्ष की ओर से आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री मोदी ने जिन प्रोजेक्ट का लोकार्पण किया है, वे सभी पूर्व कांग्रेस सरकार की देन हैं। कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुडडा ने झज्जर में कैंसर संस्थान के लोकार्पण के दौरान यह मसला उठाया। हालांकि सत्तपक्ष का कहना है कि कांग्रेस सरकार ने सपने तो देखे थे लेकिन उन्हें पूरा नहीं किया, जबकि भाजपा सरकार ने सपने देखे भी हैं, और उनको पूरा भी किया है। जाहिर है, इन प्रोजेक्ट को लेकर विपक्ष और सत्तापक्ष के बीच क्रेडिट वार तो चलना ही है। हालांकि हरियाणा की जनता को यह संदेश मिल गया है कि इन प्रोजेक्ट को पूरा कराने के लिए भाजपा पर फिर विश्वास जताना उसके लिए जरूरी होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने यही बात कही है। इस समारोह के बाद हरियाणा में आम चुनाव की तैयारियां और बढ़ जाएंगी।

Check Also

धरती के ‘भगवानों’ की नाराजगी

धरती के भगवान यानी डॉक्टर आजकल रुठे हुए हैं। उनकी यह नाराजगी जायज भी है, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel