Home » Photo Feature » भूलकर भी नजरअंदाज न करें अपने कान का दर्द, जाने लक्षण और इसके घरेलू नुस्खे
ear pain, symptoms and home remedies

भूलकर भी नजरअंदाज न करें अपने कान का दर्द, जाने लक्षण और इसके घरेलू नुस्खे

कान शरीर का सबसे संवेदनशील अंग होता है । कान के दर्द को एअरचे के नाम से भी जाना जाता है। इसका तात्पर्य ऐसे दर्द से है, जिसकी शुरूआत कान से होती है, लेकिन कुछ समय के बाद यह कान का दर्द बढ़ जाता है और इसकी वजह से गले तक में सूजन हो सकती है। ऐसी स्थिति में व्यक्ति को मेडिकल सहायता की जरूरत पड़ सकती है और यदि किसी कारणवश यह सहायता समय रहते नहीं मिल पाती है, तो फिर इससे व्यक्ति अपनी सुनने की क्षमता भी खो सकता है।

कान से जुड़ी समस्याएं अधिकतर सर्दियों के मौसम में होती हैं। कान बंद होना, कान से पानी आना या सर्दी-बुखार की वजह से भी ये समस्याएं होती हैं। कई बार बच्चों को भी कान में पस पड़ने जैसी तकलीफें होती हैं, जो एक गंभीर बीमारी का कारण बन सकते हैं, इसलिए जरूरी है कि कान का इलाज जल्द से जल्द एक अच्छे डॉक्टर से कराया जाए।

कान के दर्द के संभावित कारण जिनमें आमतौर पर शामिल हैं:-

गुहाओं

साइनस संक्रमण

कान का गंधक

तोंसिल्लितिस

दांतों का पिसना

यह सवाल ऐसे सभी लोगों के लिए मायने रखता है, जो कान के दर्द से पीड़ित होता है। कान के दर्द से ग्रस्त व्यक्ति को कई सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, ऐसी स्थिति में उसे ऐसे तरीकों की तलाश रहती है, जिनके माध्यम से वह इस कान की समस्या से निजात पा सके। यदि कोई शख्स कान के दर्द से परेशान है, तो वह उपचार के इन तरीकों से इस कान की समस्या से निजात पा सकता है ।

ice pack for earache

कान के दर्द से राहत पाने के लिए आइस पैक या वार्म कंप्रेस का इस्तेमाल कर सकते हैं, जैसे हीटिंग पैड या नम वॉशक्लॉथ

Use of ginger

अदरक का इस्तेमाल

अदरक का रस भी कान के लिए काफी असरदार औषधि है। अदरक के रस की दो बूंदें कान में डालने से कान का दर्द और सूजन कम होती है या फिर अदरक के रस में नींबू का रस मिलाकर इसकी चार-पांच बूंदें कान में डाल लें। थोड़ी देर बाद इसे हल्के हाथ से रूई से साफ कर लें। इससे कान की सफाई तो अच्छी होती है, साथ ही दर्द भी कम हो जाता है।

Treatment with garlic oil

लहसुन के तेल से उपचार

कान के उपचार के लिए लहसुन से बेहतर आयुर्वेदिक औषधि और कोई नहीं है। 2 चम्मच तेल में लहसुन की कली पीसकर एक बर्तन में गर्म कर लें और इस तेल को ठंडा करने के बाद इसे छानकर एक शीशी में भर लें। इसकी तीन से चार बूंदें कान में डालने से कान के दर्द में राहत मिलती है।

neem oil treatment

नीम का तेल

नीम का तेल भी आयुर्वेदिक औषधि के रूप में कान के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। नीम के तेल में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो कान की समस्याओं को दूर करने में सहायक होते हैं। नीम के तेल की भी 3 से 4 बूंदें डालने से कान का दर्द ठीक होता है।

Onion juice treatment

प्याज का रस

प्याज का रस निकालकर इसे रूई के फोहे की सहायता से कान में इसकी बूदें टपकाएं। इससे भी कान का दर्द, कान में सूजन या संक्रमण ठीक होता है।

avoid Cleaning with earbuds

ध्यान रखने की बात यह है कि कान में दर्द होने पर स्वयं ही तीली, बड से सफाई करना या तेल डालना जैसे प्रयोग न करें। सबसे पहले ईएनटी विशेषज्ञ को दिखाएं ताकि दर्द का वास्तविक कारण मालूम हो सके। अन्य जगहों का दर्द होने पर कान को छेडऩे से इसमें भी नई समस्या हो सकती है। ऐसे में उचित कारणों का पता चलने पर ही सटीक इलाज संभव हो सकता है।

Check Also

पुलिस ने लड़की को उसके पहनावे पर हिरासत में लिया, कहा- यह भेष देश की संस्कृति के विरुद्ध है

नई दिल्ली: एक लड़की अपने पहनावे के चलते बुरी फंस गई।इसको इसका पहनावा बहुत भारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel