घर-घर से कूड़ा उठाने की नयी प्रणाली का पार्षद ने किया विरोध - Arth Parkash
Saturday, September 22, 2018
Breaking News
Home » चंडीगढ़ » घर-घर से कूड़ा उठाने की नयी प्रणाली का पार्षद ने किया विरोध
घर-घर से कूड़ा उठाने की नयी प्रणाली का पार्षद ने किया विरोध

घर-घर से कूड़ा उठाने की नयी प्रणाली का पार्षद ने किया विरोध

 सफाई कर्मियों की रोजी-रोटी प्रभावित होने की आशंका

चंडीगढ़(वीरेंद्र सिंह) ।नगर निगम चंडीगढ़ की आज की सदन बैठक में गारबेज फ्री-स्टार रेटिंग-3 की घोषणा करने संबंधी प्रस्ताव पर निगम कमिश्नर के.के. यादव ने इसकी सभी बारीकियों का संक्षिप्त ब्यौरा दिया। उन्होंने सबसे ज्यादा फोकस डोर-टू-डोर गारबेज कलेक्शन की प्रणाली और उसे संचालित करने की विधि बतायी।

उसके उपरांत पार्षद राजेश कालिया ने उस प्रस्ताव पर निगम कार्यालय के बाहर धरना दे रहे सफाई कर्मियों की समस्या का हवाला देकर उन पर विचार करने के बाद ही डोर-टू-डोर कलेक्शन सिस्टम को लागू करने की बात कही। कमिश्नर ने जवाब में कहा कि धरनारत कर्मियों को उनसे पूछकर धरना देना चाहिए था। उन्होंने आधारहीन बातों पर धरना दिया है। कमिश्नर व मेयर से बात तो करते। निगम किसी की रोजी-रोटी पर लात नहीं मारना चाहता है। किन्तु इस प्रस्ताव पर पूरी चर्चा कर सर्वसम्मत राय आनी जरूरी है कि निगम के पार्षदों की राय क्या है।

राजेश कालिया ने कहा कि समाचार पत्रों में छपी खबरों में सफाई कर्मियों की नौकरी पर लात मारने वाली बात की गयी है। इसलिए उनका विरोधस्वरूप धरना जारी है। कमिश्नर ने कहा कि अखबारों की बातों की जांच या वेरीफिकेशन नहीं की जा सकती है। इसलिए जरूरी नहीं कि उन खबरों में सबकुछ ठीक हो। आप की तथ्यों पर आधारित बात करनी चाहिए। उनका कहना था कि इस पर पार्षदों की सर्वसम्मत राय जानने के उपरान्त ही किसी नतीजे पर पहुंचना संभव है। इससे पूर्व कमिश्नर ने बताया कि डोर-टू-डोर कलेक्शन की नयी प्रणाली से पूरे शहर का कूड़ा उठाकर ट्रांसपोर्ट सिस्टम के जरिए सीधे गारबेज प्रोसेसिंग प्लांट तक पहुंच जाएगा। इस प्रणाली के चलते शहर की किसी रोड या स्थल पर कोई गंदगी नहीं रह पाएगी।

इसके चलते सेग्रीगेशन का कार्य भी सही ढंग से हो पाएंगे। इसमें कोई भी कर्मचारी किसी प्रकार की कोताही नहीं बरत पाएगा। नियमों का उल्लघन करने पर संबंधित व्यक्ति पर जुर्माने का भी प्रावधान होगा। कमिश्नर ने बताया कि वर्तमान में कुछ हजार घरों में ही डोर-टू-डोर कलेक्शन हो रहा है। अभी शहर के 38  हजार 500 घरों में सेग्रीगेशन नहीं हो पा रहा है। किन्तु नयी प्रणाली से पूरा शहर कवर हो जाएगा। इसके साथ ही साथ निगम को राजस्व भी मिलेगा। निगम के राजस्व को ही निगम के कार्यों में लगाया जा सकेगा। घर-घर से कूड़ा कलेक्ट करने की एवज में 30  करोड़ के लगभग राजस्व मिल जाएगा। यह प्रणाली यदि लागू होती है तो सारी प्रक्रिया 3  माह में पूरी हो जाएगी।

इसके लिए 6  करोड़ का खर्च अभी निगम को करना पड़ेगा। सिस्टम को सुधारना ज्यादा जरूरी है। तभी हम स्वच्छता में नंबर वन हो पाएंगे। इस पर मेयर ने टिप्पणी की कि चंडीगढ़ बनेगा स्वच्छता में नंबर वन पर हर रोज जागरूकता के लिए कार्यक्रम किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि अगले सप्ताह तक इसमें पूरा शहर और हर वार्ड कवर हो जाएगा।इसके पूर्व गत मीटिंग के मिनट्स कन्फर्म करने वाले प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान मनोनीत पार्षद सचिन लोहटिया ने यह कहकर बैठक से वाकआउट करने की चेतावनी दी कि उन्होंने एजेंडा बहुत विलंब से मिला है। कुल 28  एजेंडों वाली बुक वह केवल कुछ घंटों में कैसे पढ़ सकेंगे।

कांग्रेस के देविन्दर बबला ने काफी रोष जताया। एजेंडे कुल दो भागों में प्रिंट कराया गया है। इसे पढऩे में मुश्किल होगी। बबला ने स्वच्छता अभियान पर भी चुटकी लेते हुए कहा कि मैसूर गए हुए पार्षदों को वहां के पार्षदों ने कहा कि चंडीगढ़ को मैसूर आने की जरूरत ही नहीं थी। बल्कि मैसूर चंडीगढ़ आने वाला था।  मार्डन सिटी तो चंडीगढ़ है। फिर भी इस पर अपव्यय क्यों किया गया। इसके बाद पार्षदों के स्टडी टूअर की रिपोर्ट प्रस्तुत की जानी थी। किन्तु उसी समय लंच ब्रेक हो गया। खबर छापे जाने तक सदन की कार्रवाई जारी थी। बता दें कि आज की बैठक में कुल 28 प्रस्ताव रखे गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share