Home » हरियाणा » हरियाणा के सभी गांवों में घर-घर होगी कोरोना टेस्टिंग

हरियाणा के सभी गांवों में घर-घर होगी कोरोना टेस्टिंग

सीएम मनोहर लाल ने बैठक में दिए आठ हजार टीमें बनाने के निर्देश

Corona testing will be done door-to-door in all villages of Haryana : हरियाणा के गांवों में कोरोना की एंट्री के बाद प्रदेश सरकार भी सक्रिय हो गई है। ताजा हालातों का रिव्यू करते हुए शनिवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि गांवों में ‘टेस्ट, ट्रैक एंड ट्रीट’ रणनीति को अपनाते हुए 8000 मल्टीडिसप्लनेरी टीमों के गठन का निर्णय लिया है। ये टीमें गांवों में कोरोना जांच के लिए घर-घर स्क्रीनिंग करेंगी।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शनिवार को चंडीगढ़ में स्वास्थ्य और पंचायत विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए निर्देश दिए कि कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए प्रत्येक घर को कवर करते हुए डोर-टू-डोर स्क्रीनिंग कैंप आयोजित करने, स्क्रीनिंग कैंप के लिए विशेष मल्टीडिसप्लनेरी टीमों का गठन करने और धर्मशालाओं, सरकारी स्कूलों और आयुष केंद्रों को आईसोलेशन केंद्रों में तब्दील करने जैसी सक्रिय रणनीतियां अपनाई जाएं।

Corona testing will be done door-to-door in all villages of Haryana : उन्होंने कहा कि यह टीमें हर परिवार की जांच उनके ऑक्सीजन और तापमान के स्तर की रिकॉर्डिंग के साथ की जाए। उन्होंने कहा कि यदि स्क्रीनिंग कैंप के दौरान यह पता चलता है कि किसी व्यक्ति में बुखार, सर्दी और खांसी जैसे लक्षण हैं, तो उस व्यक्ति को तुरंत होम आईसोलेशन में रहने की सलाह दी जाए। स्क्रीनिंग करते समय मल्टीडिसप्लनेरी टीमें यह सुनिश्चित करें कि जिन लोगों में हल्के और मध्यम लक्षण हैं, उन्हें तुरंत कोरोना के लिए निर्धारित दवाइयां दी जाएं। गंभीर लक्षण वाले लोग आवश्यक उपचार के लिए तुरंत अस्पताल में भर्ती हों।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें किसी भी कीमत पर गाँवों को इस घातक संक्रमण से बचाना है, इसलिए संबंधित प्रत्येक अधिकारी हर गांव पर विशेष सतर्कता बरता जाना सुनिश्चित करे। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों के लिए एक विशेष जागरुकता-सह-परामर्श अभियान शुरू किया जाए। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों, आशा वर्कर्स और प्रत्येक गांव के पूर्व और वर्तमान जनप्रतिनिधियों को मिलकर लोगों को स्क्रीनिंग कैंप में जांच करवाने के लिए प्रोत्साहित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि कोरोना प्रबंधन की तैयारियों जैसे टेस्टिंग सुविधा बढ़ाने एवं क्लिनिकल मैनेजमेंट पर ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ विशेष तौर पर, ग्रामीण क्षेत्रों में जन-जागरुकता गतिविधियां प्राथमिकता के आधार पर आयोजित की जाएं।

ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष स्क्रीनिंग कैंप लगाए जाएंगे

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण इलाकों में वायरस का प्रसार हो रहा है, इसलिए प्रत्येक गांव में ‘टेस्ट, ट्रैक एंड ट्रीटÓ रणनीति को अपनाकर स्क्रीनिंग कैंप लगाए जाएं ताकि यदि किसी को भी कोरोना के लक्षण हो तो जल्दी से जल्दी पकड़ में आ सकें और संक्रमण के प्रसार को रोका जा सके। इन कैंपों के माध्यम से अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि हरियाणा के लगभग 60 लाख परिवारों के प्रत्येक सदस्य को ‘टेस्ट, ट्रैक एंड ट्रीटÓ किया जा सके।

धर्मशाला, सरकारी स्कूलों को आईसोलेशन सेंटर में बदला जाए

मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिए कि धर्मशालाओं एवं सरकारी स्कूलों को आईसोलेशन केंद्रों में परिवर्तित करने की संभावना का जल्द से जल्द पता लगाया जाए। उन्होंने कहा कि अगर कोविड केयर केंद्रों और अस्पताल में मरीज बढ़ते हैं तो धर्मशालाओं, सरकारी स्कूलों, जहां कोविड-19 मरीजोंं के इलाज के लिए आवश्यक चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध हैं, का उपयोग किया जा सकता है ताकि हर मरीज को आवश्यक चिकित्सा सुविधा मिल सके।

Check Also

There will be division of assembly building in Haryana and Punjab

हरियाणा व पंजाब में होगा विधानसभा इमारत का बंटवारा

हरियाणा ने यूटी को दिया रिकार्ड,  पंजाब के पास हैं हरियाणा के 20 कमरे There …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel