Home » हरियाणा » कोरोना से निपटने के लिए विधायी तंत्र सक्रिय, हरियाणा विधानसभा में बनेगा कंट्रोल रूम
Control room will be made in Haryana Legislative Assembly

कोरोना से निपटने के लिए विधायी तंत्र सक्रिय, हरियाणा विधानसभा में बनेगा कंट्रोल रूम

लोकसभा अध्यक्ष से बैठक में स्पीकर ने दिया रोड मैप

Control room will be made in Haryana Legislative Assembly : कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप से निपटने के लिए देश का विधायी तंत्र सक्रिय हो गया है। सोमवार को लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने देश के सभी विधान मंडलों के पीठासीन अधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक कर स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान हरियाणा विधान सभा के अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने प्रदेश के एनसीआर और जीटी रोड स्थिति जिलों में कोरोना संक्रमण के बढ़ते आंकड़ों पर चिंता जताई। गुप्ता ने विधान सभा की ओर से किए जा रहे प्रयासों का ब्योरा भी दिया।

उन्होंने बताया विधान सभा सचिवालय जल्द ही नियंत्रण कक्ष स्थापित करेगा। यह कक्ष लोक सभा के माध्यम से सभी राज्यों के साथ समन्वय कर लोगों की सहायता और विकट परिस्थितियों से निपटने में मदद करेगा। इसके साथ ही हरियाणा विधान सभा सचिवालय टीकाकरण, लोगों को जागरूक करने और कोविड प्रोटोकॉल का पालन करवाने के लिए भी सक्रिय भूमिका निभाएगा। इसके लिए अनेक फैसले किए जा चुके हैं।

Control room will be made in Haryana Legislative Assembly : लोक सभा अध्यक्ष के प्रयास से आयोजित पीठासीन अधिकारियों की वर्चुअल बैठक में ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि हरियाणा में संक्रमण की रफ्तार बढऩे के पीछे दो प्रमुख कारक ध्यान में आ रहे हैं। पहला प्रदेश का दिल्ली से सटा होना और दूसरा जीटी रोड। हरियाणा का बड़ा हिस्सा राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में आता है। प्रदेश के 22 में से 14 जिले एनसीआर का हिस्सा है। इन जिलों से बड़ी संख्या में लोगों का दिल्ली आना-जाना रहता है। इसके साथ ही उत्तर भारत के राज्य पंजाब, हिमाचल प्रदेश और केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर, लद्दाख और चंडीगढ़ के लोग हरियाणा में स्थित जीटी रोड के माध्यम से दिल्ली आवागमन करते हैं। हरियाणा में इस बार कोविड-19 का सबसे ज्यादा असर एनसीआर और जीटी रोड के साथ लगते जिलों में ही है।

Control room will be made in Haryana Legislative Assembly : गुप्ता ने कहा कि किसान आंदोलन से जुड़ी गतिविधियों से भी यहां करोना संक्रमण बढऩे की आंशका है। दूसरे प्रदेशों से किसान एक्टिविस्ट यहां सक्रिय हैं। दिल्ली के आसपास दिए जा धरने हरियाणा के साथ लगते जिलों को प्रभावित कर रहे हैं। बैठक में गुप्ता ने कहा कि अब समय आ गया है कि जब हमें कोरोना के साथ जीने की आदत डालनी होगी। यह जंग लंबी हो सकती है। इसलिए ‘लड़ाई भी, दवाई भी और कड़ाई भी’ के मंत्र का पालन करें।

गुप्ता करेंगे सभी विधायकों के साथ बैठक

ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि बदलते हालातों में जन-प्रतिनिधियों के कंधे पर बड़ी जिम्मेदारी आ पड़ी है। इसलिए विधायकों ने संकट की इस घड़ी में पूरे मनोयोग के साथ जनता का सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के हालातों का जायजा लेने के लिए वे 22 अप्रैल को प्रदेश के विधायकों के साथ वर्चुअल बैठक करेंगे। इसके साथ ही उन्होंने विधायकों से अपील की कि वे अपने हलके के लोगों को गृह और स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से समय-समय पर जारी कोविड प्रोटोकॉल संबंधी हिदायतों का पालन करने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने विधायकों से अपील की कि सामूहिक समारोहों को बढ़ावा न दें और किसी स्थान पर लोगों को इकट्ठा न होने दें।

Check Also

गृह मंत्री ने DGP सौंपी लॉकडाउन 20 मई तक बढ़ाने का फर्जी मैसेज की जांच

चंडीगढ़। हरियाणा में कोरोना से चल रही जंग के बीच कुछ असामाजिक तत्व अफवाहें फैलाकर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel