Saturday, September 21, 2019
Breaking News
Home » Photo Feature » यहां मिली 10 किमी लंबी नमक की गुफा, 9 देशों के 88 खोजकर्ताओं ने की खोज

यहां मिली 10 किमी लंबी नमक की गुफा, 9 देशों के 88 खोजकर्ताओं ने की खोज

अब तक दुनिया की सबसे बड़ी ‘नमक की गुफा’ ईरान की 3एन गुफा कहलाई जाती थी। ये वहां के केशम आईलैंड के दक्षिणी हिस्से में थी, लेकिन अब एक और नई गुफा इजरायल में खोजी गई है। इजरायल में 9 देशों के 88 खोजकर्ताओं ने दुनिया की सबसे लंबी नमक की गुफा खोज निकाली है। ये 10 किमी (6.2 मील) लंबी गुफा मृत सागर के पास माउंट सोडोम के पहाड़ों में मिली है।

सबसे लंबी नमक की गुफा खोजने की जानकारी 28 मार्च को येरूशलम की हिब्रू यूनिवर्सिटी के खोजकर्ताओं ने दी है। यूनिवर्सिटी ने बयान जारी कर कहा कि माउंट सोडोम इजरायल का सबसे लंबा पहाड़ है। यहां मिली गुफा का नाम मलहम है। यह मृत सागर के दक्षिण पश्चिम कोने तक फैली है। इससे पहले ईरान में दुनिया की सबसे लंबी नमक की गुफा होने का रिकॉर्ड था।

इजरायली गुफा खोजकर्ता क्लब और बुल्गारिया के सोफिया स्पेलियो क्लब ने इजरायल समेत 9 देशों के 88 खोजकर्ताओं के साथ गुफा का मानचित्रण पूरा किया है। इस गुफा की इसकी छत से नमक के टुकड़े लटके हैं। जो धातु की तरह चमकते हैं, इनसे बूंद बूंद कर खारा पानी भी रिसता है। 80 खोजकर्ताओं के समूह ने इस गुफा की लंबाई मापने की मैपिंग का काम किया।

2006 में शोधकर्ताओं ने दक्षिण ईरान के केशम आईलैंड में स्थित एन3 गुफा की खोज करके, उसका 6 किलोमीटर का नक्शा बनाया। इसके बाद इसे ही दुनिया में नमक की सबसे बड़ी नमक की गुफा के रूप में पहचान मिली। नमक की गुफा का संकेत दीवारों पर मौजूद पानी में नमक के स्वाद से मिला था। जंगल में बारिश के दौरान नमक चट्टानों की दरारों से रिसकर छोटी-छोटी गुफाओं के आकार में ढलता है। बहकर मृत सागर के पास पहुंच जाता है। फ्रम्किन जिस दौरान नक्शा तैयार कर रहे थे, तब भी गुफाओं का आकार बदल रहा था।

फ्रम्किन का काम शौकिया तौर पर गुफाओं की खोज करने वाले योव नेगव ने पूरा किया। वे इजराइल केव एक्सप्लोरर्स क्लब के संस्थापक भी हैं। खोज के काम को पूरा करने के लिए नेगव ने गुफाओं की खोज करने वाले बुल्गारियन मूल के लोगों से मदद ली। दस दिनों की मेहनत के बाद इन लोगों ने गुफा की लंबाई का पता लगाया।

नेगव ने कहा कि मैंने अब तक जितनी भी गुफाएं देखी हैं, उनमें यह सबसे सुंदर है। इसमें कई गलियारें, छोटी गुफाएं हैं जो पहाड़ी मैदान तक पहुंचते हैं। ये सबसे लंबी है।इस गुफा की खोज से जुड़े सबूत पहले भी कई दफे खोजकर्ताओं ने दिए। 1980 में पहली बार इस गुफा को लेकर पांच किलोमीटर का नक्शा भी तैयार किया गया था। ये नक्शा हिब्रू यूनिवर्सिटी के केव रिसर्च सेंटर के संस्थापक-निदेशक एमोस फ्रम्किन ने किया था। अमोस फ्रुमकिन ने बताया कि 39 साल पहले 1980 में हमने इस गुफा को 5 किमी तक नापा था। तब आधा नक्शा भी तैयार किया था। लेकिन दो साल पहले इजरायली खोजकर्ता योव नेगेव ने हमारे अधूरे काम को पूरा करने का फैसला किया और अब जाकर दुनिया की सबसे लंबी गुफा को खोज निकाला।

Check Also

PICS: शाह का सिटी ब्यूटीफुल में कुछ इस तरह से हुआ स्वागत, CM मनोहर लाल ने भेंट की ‘कान्हा’ की मूर्ति

जब चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर उतरे अमित शाह….. एमपी किरण खेर, हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel