Home » Photo Feature » रक्त आवश्यकता की पूर्ति केवल ‘रक्तदान’ से ही सम्भव : परमिन्द्र राय

रक्त आवश्यकता की पूर्ति केवल ‘रक्तदान’ से ही सम्भव : परमिन्द्र राय

चंडीगढ़ । मानव शरीर के कृत्रिम अंग बनाने में तो वैज्ञानिक कामयाब हो गए हैं लेकिन रक्त एक ऐसी चीज है जिसे इस धरती पर आज तक कोई भी हस्ती नहीं बना सकी जिसकारण किसी भी प्राणी की रक्त की आवश्यकता की पूर्ति केवल रक्तदाताओं द्वारा रक्त दान करके ही की जा सकती है, ये उद्गार आज यहां सैक्टर 30-ए में स्थित सन्त निरंकारी सत्संग भवन सैक्टर 30-ए में मानव एकता दिवस के अवसर पर संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन द्वारा करवाए गये विशाल रक्तदान शिविर के अवसर सेवा निवृत्त आईपीएस, परमिन्द्र राय, भूतपूर्व अध्यक्ष एवं प्रबन्ध-निदेशक, हरियाणा पुलिस आवास निगम ने व्यक्त किए। इस शिविर में कुल 483 युनिट रक्त दान किया गया जिनमें 61 महिलायें थी ।

सैकड़ों की संख्या में उपस्थित रक्तदाताओं को प्रोत्साहित व उनकी प्रशंसा करते हुए श्री राय ने आगे कहा कि आप द्वारा दान किया गया रक्त किसके शरीर में जाएगा हमें नहीं पता लेकिन इतना अवश्य पता है कि क्योंकि आप सभी ब्रह्मज्ञानी है और मानवता आपकी नसों में दौड़ती है, इसलिए इस रक्त से जरूरतमंदों को न केवल जीवनदान मिलेगा बल्कि इससे उनके अन्दर प्रीत-प्यार-नम्रता-सहनशाीलता जैसे मानवीय-गुण भी बढ़ते जायेंगेे ।

इस अवसर पर ज़ोनल इन्चार्ज श्री केके कश्यप ने बताया कि सत्गुरू माता सुदीक्षा जी महाराज के आदेशानुसार व सत्गुरू बाबा हरदेव सिंह जी महाराज द्वारा अपनाई गई नीति कि रक्त नालियों में नहीं नाडिय़ों में बहना चाहिए को प्रैक्टिकल रूप देते हुए आज के दिन भारत में स्थित सन्त निरंकारी मिशन की विभिन्न ब्रान्चों में सन्त निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन ने एक साथ 81 रक्त दान शिविरों का आयोजन किया जा रहा है।

श्री कश्यप ने आगे बताया कि बाबा हरदेव सिंह जी महाराज द्वारा समय समय पर दी गई शिक्षाओं से प्रेरित हो कर वर्ष 1986 से श्रद्धालु भक्त रक्तदान को अपनी भक्ति का ही अंग बनाकर इस महान अभियान में योगदान देने के लिए बड़ी संख्या में आगे आने लगे। अब तक मिशन द्वारा 6,076 रक्तदान शिविर आयोजन करके 10 लाख से भी अधिक युनिट रक्तदान किया जा चुका है।

इनमें से पिछले वर्ष 516 रक्तदान शिविर आयोजित करके 84,058 युनिट रक्तदान किया गया । केवल चण्डीगढ़ ज़ोन में पिछले वर्ष 22 शिविरों का आयोजन किया गया और इस वर्ष मार्च 2020 तक 30 रक्तदान शिविर लगाए जायेंगे ।उत्तरी भारत के ब्रान्च प्रशासन विभाग के सहयोगी इन्चार्ज की जिम्मेवारी निभा रहे कर्नल सी0 एस0 तुड़ ने इस समागम की अध्यक्षता करते हुए फरमाया कि आज के दिन मानवता के लिए शहीद हुए तत्कालीन सत्गुरू बाबा गुरबचन सिंह जी महाराज, चाचा प्रताप सिंह जी व समय-समय पर अन्य महात्माओं द्वारा इस मिशन के सत्य के सन्देश को जारी रखने के लिए अपने जीवन की दी गई कुर्बानी को हमें भुलाना नहीं है और उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि यही होगी यदि हम उनके प्रवचनों को अपने जीवन में अपनाते हैं ।

स्थानीय संयोजक श्री नवनीत पाठक ने इस अवसर पर रक्त एकत्र करने हेतु ब्लड बैंक पी0जी0आई0 चण्डीगढ से डा0 सुचेत सचदेव व जनरल अस्पताल सैक्टर 16 से डा0 सिमरजीत कौर के साथ आई टीमों का तथा रक्तदान के लिए उपस्थित सभी श्रद्धालुओं का धन्यवाद किया । इस अवसर पर सेक्टर 15 के मुखी श्री सोहन सिंह जी , सेक्टर 40 के मुखी श्री पवन कुमार जी , सेक्टर 45 के मुखी श्री नरिंदर गुप्ता जी भी उपस्थित थे

Check Also

चंडीगढ़ शिक्षक भर्ती घोटाला: नौकरी से निकाले गए 42 टीचर्स ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

चंडीगढ़। 2015 पेपर लीक मामले में आरोपित 42 जेबीटी और टीजीटी टीचर्स को पंजाब व …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel