चंडीगढ़: 9 कर्मचारियों पर केस दर्ज करने का आदेश, ये रहे नाम - Arth Parkash
Tuesday, February 19, 2019
Breaking News
Home » चंडीगढ़ » चंडीगढ़: 9 कर्मचारियों पर केस दर्ज करने का आदेश, ये रहे नाम
चंडीगढ़: 9 कर्मचारियों पर केस दर्ज करने का आदेश, ये रहे नाम

चंडीगढ़: 9 कर्मचारियों पर केस दर्ज करने का आदेश, ये रहे नाम

चंडीगढ़। चीफ विजिलेंस ऑफिसर ने भवन नियमों में उल्लंघन को लेकर चंडीगढ़ एस्टेट आफिस के अफसरों समेत 9 कर्मचारियों पर केस दर्ज करने का आदेश दिया है। मामला इंडस्ट्रीयल एरिया फेस टू के प्लाट नंबर 84 और 85 का था। अफसरों पर इन दोनों प्लाटो के जोडऩे की अनुमति देने का जिम्मेदार ठहराया गया है। दोनों प्लाट के मालिक अलग अलग हैं।

विजिलेंस जांच के बाद यह कमेटी बनी थी। जांच में 20 कर्मचारियों को शामिल किया था जिनमें आर्किटेक्ट विभाग और एस्टेट आफिस के कर्मी शामिल थे। बता दे कि विजिलेंस जांच की सिफारिश चंडीगढ़ के पूर्व उपायुक्त मोहम्मद शाइन ने की थी, जब उनके संज्ञान में भवन निर्माण में अनियमितता का मामला आया था। जानकारी के मुताबिक मामला एक ऑटोमोबाइल एजेंसी से जुड़ा हुआ है। प्रिंसिपल होम सेक्रेटरी अरुण कुमार गुप्ता की अध्यक्षता वाली एक कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर यह निर्देश दिए गए हैं। अफसर ने बताया कि पुलिस को नौ लोगों पर केस दर्ज करने का आदेश दिया गया है।

इन पर दर्ज होगा मामला

  • धमेंद्र बस्सी, एसडीओ बिल्डिंग
  • सुरेश कुमार, एसडीओ बिल्डिंग
  • विनोद कुमार जैन, एसडीओ बिल्डिंग
  • जगमोहन सिंह बिल्डिंग असिस्टेंट
  • हरनेक सिंह जूनियर इंजीनियर
  • संदीप शर्मा, ड्राफ्टमैन
  • विपिन बग्गा, ड्राफ्टमैन
  • राम सिंह सहोता, हेड ड्राफ्टमैन
  • कृपाल सिंह, जूनियर / असिस्टेंट इंजीनियर

जीएसटी नहीं देने पर हेड मास्टर सैलून पर छापामारी

चंडीगढ़। एक्साइज एंड टैक्सेशन कमिश्नर के आदेश के बाद हरकत में आए विभाग ने शुक्रवार देर रात सेक्टर 8 के हेड मास्टर सैलून पर छापेमारी की। अफसर ने बताया कि सैलून 10 महीनों से जीएसटी नहीं दे रहा था उस पर करीब 50 लाख बकाया भी निकल रहे हंै। टीम ने वहां से डॉक्यूमेंट लैपटॉप को अपने कब्जे में ले लिया है साथ ही दुकान मालिक को नोटिस देते हुए सोमवार को डिपार्टमेंट ने बुलाया है। अफसर ने बताया कि आगे भी ऐसी कार्रवाई चलती रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share