Home » Photo Feature » चंडीगढ़: आपात स्थिति में सहायता करेगा ये मोबाइल ऐप, जानिए क्या है इसकी विशेषता

चंडीगढ़: आपात स्थिति में सहायता करेगा ये मोबाइल ऐप, जानिए क्या है इसकी विशेषता

चंडीगढ़। नाइट्स सोटा, नाम से एक अद्वितीय मोबाइल एप्लीकेशन को आज यहां लॉन्च किया गया। ये एप्लीकेशन, एंड्रॉयड प्ले स्टोर और एप्पल ऐप स्टोर पर उपलब्ध है, जिसे मूल रूप से सैकड़ों बैंक कैश वैन्स के लिए प्लान्ड किया गया था, अब सभी के लिए उपलब्ध होगा। अपनी अनूठी विशेषताओं के साथ, मोबाइल एप्लीकेशन किसी भी आपात स्थिति में किसी की मदद करेगा और इसकी सबसे खास बात ये है कि ये सटीक लोकेशन को कंट्रोल रूम में भेजता है, जो स्थानीय पुलिस के साथ जुड़ जाएगा और तुरंत कार्रवाई सुनिश्चित करेगा। नाइट्स, एक मोहाली स्थित कंपनी है जो विशेष रूप से देश भर में कैश वैन्स वैन के लिए सुरक्षा सेवाएं प्रदान करती है। मोबाइल एप नाइट्स सोटा, जो कि प्रशिक्षित एसोसिएट्स की सुरक्षा के लिए स्थापित है, इस तथ्य से अपना नाम प्राप्त करता है कि कंपनी पूर्व सैनिकों द्वारा संचालित की जा रही है। एप को आज सेक्टर 42 में एक होटल में आयोजित ‘चैलेंज फेसिंग मूवमेंट ऑफ कैश’ पर एक सेमिनार में लॉन्च किया गया। इस मौके पर विभिन्न बैंकों के वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी भी उपस्थित थे। इस बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए कर्नल जी.पी.एस.विर्क, कंपनी डायरेक्टर ने बताया कि ”यह एप ड्यूटी दे रहे सुरक्षा बलों के कर्मियों के परिवारों और मां-बाप के लिए भी काफी लाभदायक होगी।

और इसके साथ ही पूर्व सैनिकों के लिए भी उपयोगी होगी। इसके साथ ही ये एप्प इसका उपयोग करने वाले किसी भी व्यक्ति को समान सेवाएं प्रदान करेगी| उन्होंने समझाया कि एप सॉफ्टवेयर आधारित एप्लिकेशन को इन-हाउस ही डेवलप किया गया है और ये प्रशिक्षित मानव शक्ति और कला प्रौद्योगिकी की स्थिति के बीच एक आदर्श मिश्रण और तालमेल है। यह एक अत्याधुनिक निगरानी और अलार्म सिस्टम की एक अनुकूल और इंटरएक्टिव सुविधा है जो कि मूल्यवान, आवासीय और कमर्शियल साइटों के प्रतिक्रिया समाधान के साथ मिलती है।

मूल रूप से यह कैश वैन्स के लिए थी, लेकिन अब एप्लीकेशन हर उस व्यक्ति के लिए उपलब्ध है जो कि इसके साथ सुरक्षित होना चाहता है। आपात स्थिति के मामले में यदि एप के माध्यम से कोई विशेष बटन दबाया जाता है, तो ये अपनी सटीक लोकेशन को नाइट्स कंट्रोल रूम में भेजता है कुछ ही सेकंड में पुलिस को सूचित किया जाता है। आग या चिकित्सा आपात स्थिति के मामले में एक ही एप का इस्तेमाल किया जाएगा और तत्काल कार्रवाई सुनिश्चित करने के लिए कंपनी के अनुसार फायर स्टेशन और अस्पताल के साथ भी सहभागिता है।
सेमिनार में उपस्थित बैंक सुरक्षा अधिकारियों और निजी सुरक्षा एजेंसियों की बड़ी संख्या ने इस इनोवेशन का उपयोग करके फायर ब्रिगेड और एम्बुलेंस के लाइव प्रदर्शन की सराहना की। सेंट्रल एसोसिएशन ऑफ प्राइवेट सिक्योरिटी इंडस्ट्रीज (सीएपीएसआई) के चेयरमैन कुुंवर विक्रम सिंह ने ई-सुपरवाइजर के तौर पर एप्प के उपयोग की सराहना की।

इस बीच, सेमिनार के दौरान, ब्रिगेडियर आर.पी.एस.मान ने कहा कि ”नकदी को एक जगह से दूसरी जगह लेकर जाने का काम कई चुनौतियों से घिरा हुआ है, जिसमें इलाके की विविधता, 4000 से अधिक करेंसी चेस्ट्स की एक बड़ी चेन, 2 लाख से अधिक बैंक शाखाएं, ऑनसाइट और ऑफसाइट एटीएम, उनकी दैनिक कैश अपलोडिंग और बैंक शाखाओं में नकदी की आवाजाही शामिल है| उन्होंने कहा कि एटीएम को अच्छे से सप्लाई के लिए 20 हजार से अधिक कैश वैन्स की जरूरत है और इसके साथ कैश वैन्स के साथ होने वाली लूट की बढ़ती घटनाएं भी चिंता का विषय हैं।

Check Also

नदी में चल रहा था दूल्हा-दुल्हन का प्री-वेडिंग फोटोशूट, अचानक पलट गई नाव

आजकल शादी से पहले प्री-वेडिंग फोटोशूट और वेडिंग फोटोशूट का चलन तेजी से बढ़ रहा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel