Home » चंडीगढ़ » चंडीगढ़ में Vaccine तो लग रही, पर प्रशासन और केंद्र उलझ क्यों गया?
chandigarh administration news

चंडीगढ़ में Vaccine तो लग रही, पर प्रशासन और केंद्र उलझ क्यों गया?

वैक्सीन ड्राइव को लेकर आंकड़ों की बाजीगरी में उलझा केंद्र और प्रशासन

चंडीगढ़(साजन शर्मा): केंद्र सरकार और चंडीगढ़ प्रशासन शहर की आबादी को लेकर आंकड़ेबाजी के खेल में उलझ गया है। चंडीगढ़ में कितने लोगों को वैक्सीन लगानी है, इसका हिसाब किताब नहीं बताया जा सक रहा है। केंद्र सरकार और चंडीगढ़ प्रशासन के बीच शहर की आबादी को लेकर एकराय नहीं बन पा रही है। केंद्र सरकार शहर की आबादी के अलग जबकि चंडीगढ़ प्रशासन अलग आंकड़े बयान कर रहा है। इससे यह तय नहीं हो पा रहा है कि आबादी का कौन सा आंकड़ा मानकर अभी तक हुई वैकसीनेशन का प्रतिशत निकाला जाए।

केंद्र सरकार 2011 की जनगणना को आधार मानकर शहर की आबादी गिन रही है। जनसंख्या की सालाना ग्रोथ के हिसाब से वह आबादी गिन रही है। इस हिसाब से अगर देखा जाए तो अब तक शहर की आबादी 22 लाख से 24 लाख के बीच होनी चाहिए जो कि नहीं है। चंडीगढ़ प्रशासन लगातार कह रहा है कि शहर की आबादी फिलहाल 12 से 12.50 लाख के बीच है। प्रशासन वोटर लिस्टों के हिसाब से आबादी का लेटेस्ट आंकड़ा बता रहा है कयोंकि यह लगातार हर साल अपडेट होता रहता है। जो लोग इसमें जुड़े हैं या जो मौत की वजह से लिस्ट से हटे हैं उनका पूरा अपडेट चलता रहता है। केंद्र है कि फिलहाल प्रशासन की इस दलील को मानने को तैयार नहीं। प्रशासन के दिए गए आंकड़ों से केंद्र का बिलकुल भी इत्तेफाक नहीं। चंडीगढ़ में प्रिंसिपल हेल्थ सेक्रेटरी अरुण गुप्ता के नेतृत्व में वैकसीनेशन अभियान बहुत ही शानदार ढंग से चल रहा है। अभियान के तहत 60 से ज्यादा सेंटर बनाये गए हैं जहां बहुत ही सुचारू तौर पर वैकसीनेशन जारी है।

चंडीगढ़ स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों को मानें तो अभी तक 45 प्लस की उम्र वाले ग्रुप में 75 प्रतिशत आबादी की वैकसीनेशन की जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग की डायरेकटर डॉ. अमनदीप कौर कंग के मुताबिक उनके इलेकटोरल रोल वाले रिकार्ड में इस ऐज ग्रुप के करीब 2.5 लाख लोग हैं जिनमें से करीब 2 लाख से ऊपर को डोज लग चुकी है। यानि करीब 75 प्रतिशत आबादी को वैकसीन लगाई जा चुकी है। अगर जनगणना के हिसाब से देखेंगे तो इस ऐज ग्रुप की आबादी 3.10 लाख से भी ऊपर बताई जा रही है। उस हिसाब से प्रतिशत में यह आंकड़ा कम बनता है। डॉ. अमनदीप कौर कंग के मुताबिक 18 साल से 45 साल के 74,275 लोग अब तक वैकसीन लगवा चुके हैं। उनके मुताबिक केंद्र सरकार की ओर से वैकसीन मिलने की देरी है, हमारे वैकसीन लगाने के पूरे प्रबंध हैं। जल्द ही पूरी आबादी को कवर कर लिया जाएगा। आंकड़ेबाजी के इस खेल पर प्रिंसिपल हेल्थ सेक्रेटरी अरुण कुमार गुप्ता का कहना है कि आंकड़ेबाजी से तो बाद में निपटा जा सकता है।

फिलहाल मकसद है शहर की जनता को वैकसीन का सुरक्षा चक्र देने का। हेल्थ विभाग की संपूर्ण टीम इस काम को बखूबी अंजाम दे रही है। वैकसीन आने की देर है, 18 से 45 साल के ऐज ग्रुप का टीकाकरण भी तेज हो जाएगा। उन्होंने कहा कि वोटर लिस्टों का जो आंकड़ा है वह पूरी तरह से दुरुस्त है। चंडीगढ़ की आबादी 12 से 12.50 लाख के बीच ही है। इससे ज्यादा नहीं। केंद्र के जनगणना वाले आंकड़े पर अगर गौर करें तो उसके हिसाब से तो शहर की आबादी 20 से 24 लाख के बीच बनती है। हम इस विवाद में नहीं पड़ रहे और फिलहाल अपने काम पर फोकस कर रहे हैं। जिस दिन वैकसीनेशन ड्राइव पूरी कर लेंगे उस दिन केंद्र को इस बाबत सूचित कर देंगे। यहां बता दें कि 21 जून से केंद्र सरकार ने वैकसीन उपलबध कराने की जिममेदारी अपने हाथ ले ली है लिहाजा, आंकड़ों के आधार पर ही इसकी उपलबधता कराई जाएगी।

 

 

 

Check Also

जानें कितना बढेगा वेतन व पेंशन, पंजाब के कर्मचारियों की, छठे वेतन आयोग की सिफारिशों मंजूरी

चंडीगढ़ ।  पंजाब के सरकारी कर्मचारियों की बल्‍ले-बल्‍ले हो गई है। पंजाब सरकार ने राज्य …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel