हरियाणा में अब भाजपा का शक्तिप्रदर्शन - Arth Parkash
Thursday, October 18, 2018
Breaking News
Home » संपादकीय » हरियाणा में अब भाजपा का शक्तिप्रदर्शन
हरियाणा में अब भाजपा का शक्तिप्रदर्शन

हरियाणा में अब भाजपा का शक्तिप्रदर्शन

हरियाणा में राजनीतिक बिसात बिछ चुकी है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रोहतक के सांपला में किसानों के मसीहा सर छोटू राम की प्रतिमा का अनावरण कर प्रदेश में चुनावी हवा को और तेज कर दिया है। जाट आरक्षण आंदोलन के बाद जाटों के निशाने पर आई भाजपा ने सर छोटू राम को अपने एजेंडे में लाकर इस वर्ग को लुभाने की कोशिश की है, वहीं यह भी जताया है कि कैसे किसान उसकी प्राथमिकता है। इस दौरान हुई रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पूरा फोकस दीनबंधु सर छोटूराम पर था। वहीं मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किसानों के लिए सरकार की ओर से की गई घोषणाओं और चलाई जा रही योजनाओं का बखान किया।

राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि भाजपा ने देश की आजादी के आंदोलन में सक्रिय रहे बड़े नेताओं को अपनी सूची में लाकर उन नेताओं के पीछे खड़े समाज को आंदोलित करने की रणनीति तैयार की है। हरियाणा में इससे पहले भाजपा को दीनबंधु सर छोटूराम के प्रति इतना संजीदा होते नहीं देखा गया है, लेकिन केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह जोकि जाट समाज से आते हैं और इस वर्ग के नेता होने की वजह से ही कांग्रेस से भाजपा में आए, ने प्रधानमंत्री मोदी को सर छोटूराम की प्रतिमा के अनावरण समारोह में बुलाकर यह साबित किया है कि भाजपा अब इस वर्ग की अनदेखी नहीं कर सकती। हालांकि पीएमओ की ओर से एक टवीट भी किया गया, जिसमें सर छोटूराम को जाट समाज का नेता बताया गया है। विपक्ष ने इसकी आलोचना करते हुए भाजपा पर जातिवाद का आरोप लगाया है।

गौरतलब है कि मोदी ने सर छोटूराम को लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के बराबर लाने की कोशिश की है। मोदी ने कहा कि दोनों किसान थे और किसानों की चिंता करते थे। सरदार पटेल ने एक बार कहा था कि अगर आज सर छोटूराम होते तो मुझे बंटवारे के बाद पंजाब की चिंता नहीं करनी पड़ती। सरदार पटेल भी उनकी काबिलियत जानते थे। पश्चिमी और उत्तर भारत में उनका व्यापक प्रभाव रहा। अंग्रेज सरकार की भी हिम्मत नहीं होती थी कि सर छोटूराम की मांगों को अस्वीकार कर दे।

इस रैली के दौरान उम्मीद की जा रही थी कि प्रधानमंत्री कांग्रेस और अन्य राजनीतिक दलों पर वार करके राजनीतिक रार भी छेड़ेंगे, लेकिन वे सिर्फ सर छोटूराम और किसानों तक सीमित रहे। हालांकि कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री ने राज्य के लिए कोई नयी घोषणा नहीं की। सोनीपत के बड़ी में रेल कोच फैक्टरी के शिलान्यास के अलावा उन्होंने और कुछ नहीं दिया। हालांकि उन्होंने मनोहर लाल सरकार को जरूर खुश किया। मोदी ने हरियाणा सरकार की पीठ थपथपायी वहीं मुख्यमंत्री की भी सराहना की। उन्होंने कहाए केंद्र ने किसानों की फसलों की लागत पर 50 फीसदी मुनाफा तय किया। धान में 200 रुपयेए मक्के में 275, सूरजमुखी में 1300 और बाजरे के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 525 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ोतरी की गई है। आयुष्मान भारत योजना बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ और स्वच्छता अभियान की भी उन्होंने चर्चा की।

रैली को लेकर तमाम बातें की जा रही थी, सरकार की ओर से भी दावे किए गए थे, लेकिन कार्यक्रम सिर्फ प्रतिमा के अनावरण और रेल कोच फैक्टरी तक सीमित रहा। इससे दो दिन पहले इनेलो ने गोहाना में रैली करके अपनी शक्ति का परिचय दिया था, इस लिहाज से भाजपा की ओर से सांपला में की गई रैली का विश्लेषण बाकी है। हालांकि यह तय है कि व्यापक भीड़ जुटा कर भाजपा ने जाटलैंड में अपनी ताकत का परिचय दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share