Home » ब्रेकिंग न्यूज़ » बड़ी खबर : हिमाचल की तेजतर्रार भाजपा नेत्री व पूर्व मंत्री श्यामा शर्मा का निधन

बड़ी खबर : हिमाचल की तेजतर्रार भाजपा नेत्री व पूर्व मंत्री श्यामा शर्मा का निधन

सोलन, यशपाल कपूर l करीब चार दिन पहले हुआ डिहाइड्रेशन,अचानक बिगड़ी तबीयत,पीजीआई चंडीगढ़ पहुंचते ही तोड़ा दम यशपाल कपूर.सोलन हिमाचल प्रदेश की तेजतर्रार भाजपा नेत्री वपूर्व मंत्री श्यामा शर्मा का सोमवार को निधन हो गया। वे 70 वर्ष की थी। सिरमौर जिला के नाहन निवासी श्यामा शर्मा को करीबचारदिन पहले डिहाईड्रेशन हुआ था। इसके बाद रविवार को उनकी अचानक तबीयत बिगड़ी पहले उन्हें नाहन मेडिकल कॉलेज ले जाया गया और जब उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ तो सोमवार सुबह ही उन्हें पीजीआई चंडीगढ़ रैफर किया गया। चंडीगढ़ पहुंचते ही उन्हें चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। भाजपा नेत्री श्यामा शर्मा की मौत से खबर से सिरमौर समेत प्रदेश में शोक की लहर दौड़ गई। हिमाचलप्रदेश केकद्दावर भाजपा नेताओं में श्यामा शर्मा की गिनती होती थी। आपातकाल के दौरान उनके संघर्ष, सिरमौर जिला के विकास कार्यों और मजदूरहितैषीनेताओं केरूप में उन्हें सदा याद किया जाएगा। सिरमौरकल्याण मंच सोलन केप्रधान बलदेवचौहान,वरिष्ठ उपप्रधान प्रदीपमंममगाईं, महासचिवडॉ.गोपालशर्मा समेत समस्त सदस्यों ने उनकेनिधन पर शोक जताते हुए कहा कि सिरमौर ने एक कद्दावर नेता खो दिया, जिसकी भरपाई कभी नहीं हो सकती। सिरमौर की पहली महिला विधायक एवं मंत्री रही श्यामा शर्मा राजनीति जैसी बिहड़ राहों पर चलने वाली सिरमौर की शेरनी श्यामा शर्मा नाहन में बड़े जमींदार पंडित श्री दुर्गा दत्त के घर पैदा हुई। मां देहरादून से थी। बी.ए. की पढ़ाई पंजाब यूनिवर्सिटी से की। बाद में इलाहाबाद यूनिवर्सिटी तथा आगरा यूनिवर्सिटी से कई कोर्स किए। वे एल.एल.बी.तथा राजनीति शास्त्र एवं समाजशास्त्र में एम.ए.थी। जय प्रकाश नारायण से रहीं प्रभावित श्यामा शर्मा जय प्रकाश (जेपी) की शख्सियत से प्रभावित रही हैं। फायर ब्रांड आंदोलनकारी रही हैं। युवा मुक्ति मोर्चा की संस्थापक सदस्य भी रही और खोदरी-माजरी लेबर मूवमेंट जो देश के बड़े आंदोलनों में शुमार रहा है, उसका हिस्सा रही, जिस कारण आपको एक वर्ष भूमिगत भी रहना पड़ा। भाषा पर जबरदस्त पकड़ एक राजनेता की सबसे बड़ी खासियत होती है भाषा पर पकड़। विचारानुसार, भावानुसार भाषा की जादूगर रही। श्यामा शर्मा के ओजस्वी भाषणों ने सिरमौर के अनेकानेक लोगों को प्रभावित और इस कला में सुधार के लिए प्रेरित किया। राजनीतिक सफर श्यामा शर्मा हिमाचल प्रदेश जनता पार्टी की अध्यक्ष भी रही। जेपी मूवमेंट के भी आपकी भागीदारी रही। 1977 में पहली बार हिमाचल विधानसभा के लिए 10 महिलाओं ने चुनाव लड़ा, जिसमें अकेली आप ही थी जो विधानसभा में चुनकर आई और पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार की सरकार में राज्य मंत्री भी बनी। 1982 में भी आप विधायक रही। आप हिमाचल प्रदेश योजना बोर्ड की उपाध्यक्ष भी रही हैं। 1989 में आपने क्रांतिकारी मोर्चे का गठन किया। उसके बैनर तले 1990 में चुनाव लड़े और सिरमौर के रेणुका से रूप सिंह, शिलाई से जगत सिंह नेगी और नाहन से आप स्वयं जीती। बाद में भाजपा में विलय हो गया। राजनीतिक समीकरणों के उतार-चढ़ावों में पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर की राष्ट्रीय समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव भी रही। 2 फरवरी 2012 को बनी हिमाचल लोकहित पार्टी की भी फाउंडिंग मेंबर रही। अपने जीवन में कई उतार-चढ़ाव देखें पर हि मत कभी नहीं हारी। आंदोलनकारी की छवि आपकी हमेशा बरकरार रही। महिला सशक्तिकरण तभी हो सकता है जब हम महिलाओं को जागरूक करेंगे। श्यामा शर्मा झांसी की रानी को अपना आदर्श मानती थी। उनके संघर्षों से सिरमौर की नारियों को प्रेरणा मिली।

Check Also

अधिकारी सावधान ! हरियाणा गृह मंत्री अनिल विज ने दो दिन में दो अधिकारीयों को बिठाया घर

अम्बाल, लोकेश दत्त मेहता l हरियाणा के गृह एंव स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज एक बार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel