हाथ धोने के फायदे - Arth Parkash
Thursday, March 21, 2019
Breaking News
Home » हेल्थ » हाथ धोने के फायदे
हाथ धोने के फायदे

हाथ धोने के फायदे

चंडीगढ़। पोषण अभियान के तहत मनाए जा रहे पखवाड़े के दौरान युवा लड़कियों को हेल्थ, हाईजीन व सेनीटेशन को लेकर जागरुक किया गया। इसमें खास तौर पर हैंड वाशिंग, अर्ली चाइल्डहुड केयर, न्यूट्रीशन, हेल्थ व सेनीटेशन समेत कई अन्य जुड़े मुद्दों पर बातचीत की गई। पोषण पखवाड़े के तहत सोशल वेलफेयर विभाग स्वास्थ्य विभाग, नगर निगम इत्यादि के साथ मिलकर उन सब के घर तक पहुंच रहा है जो इस अभियान का फायदा उठा रहे हैं। इसमें मुख्य तौर पर फोकस उन इलाकों पर हैं जहां परिस्थितियां बहुत ही खराब हैं। सेनीटेशन सही नहीं है। स्वास्थ्य सेवाएं भी कालोनियों या पिछड़े क्षेत्रों में लोग नहीं ले पा रहे हैं। न्यूट्रीशन को लेकर वह कुछ खास नहीं करते। भोजन में न्यूट्रीशियंस तत्वों का अभाव है। छोटे नवजात व इससे थोड़ी बड़ी उम्र के बच्चों का लालन पालन कैसे करना है। हाथ धोने से किस प्रकार बीमारी से बचा जा सकता है। ऐसी तमाम हिदायतें इन इलाकों में सेमिनार या व्यक्तिगत तौर पर समझाई जा रही हैं।

सोशल विभाग के सचिव बीएल शर्मा ने कहा कि इससे लोगों की जिंदगी में सुधार हो रहा है। हमारा मकसद भी यही है कि लोगों की जिंदगी में न केवल एक सकारात्मक बदलाव लाएं बल्कि जहां वह किसी वजह से पिछड़ रहे हैं उन्हें आगे लेकर जाएं। गरीब तबके या कालोनियों और यहां रहने वाली महिलाओं, छोटे बच्चों इत्यादि में कुपोषण एक भयंकर समस्या के तौर पर उभरकर सामने आ रहा है। कुपोषण की समस्या पर काबू पाने के लिए उन्हें बताया जा रहा है कि कैसे पोषक तत्वों को अपने रोजाना के खानपान में शामिल करना है। न्यूट्रीशियस डाइट सोशल वेलफेयर विभाग की तरफ से भी उपलब्ध कराई जा रही है। इतना ही नहीं गर्भवती महिलाओं, छोटे बच्चों के विकास पर भी निरंतर नजर रखी जाती है। उनका वजन, हाइट, हीमोग्लोबीन इत्यादि समय समय पर जांचा जाता है। कालोनियों में इस अभियान के तहत यूथ रैलियां, जागरुकता अभियान चलाए गए। इन कालोनियों में बापू धाम, बड़हेड़ी, धनास गांव, पुनर्वास कालोनी शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share