40 डिग्री टेंपरेचर, 59 बच्चियां, 5 घंटे स्कूल के तहखाने में बंधक
Saturday, September 22, 2018
Breaking News
Home » देश » 40 डिग्री टेंपरेचर, 59 बच्चियां, 5 घंटे स्कूल के तहखाने में बंधक
40 डिग्री टेंपरेचर, 59 बच्चियां, 5 घंटे स्कूल के तहखाने में बंधक

40 डिग्री टेंपरेचर, 59 बच्चियां, 5 घंटे स्कूल के तहखाने में बंधक

 फीस जमा न होने के कारण किया बच्चियों को बेसमेंट में बंद

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के बल्लीमारान स्थित राबिया गल्र्स पब्लिक स्कूल में कथित तौर पर फीस जमा नहीं करने की वजह से बच्चियों को घंटों बेसमेंट में बंधक बनाकर रखा गया। पेरेंट्स इस बात से हैरान हैं कि महज फीस न चुकाने पर तहखाने (बेसमेंट) में बंधक बनाकर 59 बच्चियां 5 घंटे तक कैद रखी गईं। 40 डिग्री तापमान में भूखी-प्यासी बच्चियां दोपहर होने का इंतजार कर रही थीं ताकि जल्दी से उनके माता-पिता आकर उन्हें ले जाएं। जब पेरेंट्स पहुंचे तो उन्हें देखते ही बच्चे बुरी तरह रो पड़े। इसको लेकर बच्चियों के मां-बाप ने हेड मिस्ट्रेस फराह डीबा खान से बात की तो उन्होंने बेहद ही बदतमीजी से बात की और स्कूल से बाहर निकाल देने की धमकी दी।

परिजनों का आरोप है कि बेसमेंट में दरवाजे के बाहर की कुंडी लगाई गई थी। वे जब बच्चियों को लेने स्कूल पहुंचे तो स्टाफ भी संतुष्टि भरा जवाब नहीं दे सका। बच्चियों का गर्मियों में भूख-प्यास से बुरा हाल था। अपने बच्चों की हालत देखकर परिजन भी बिफर गए। उन्होंने स्कूल के बाहर जमकर हंगामा किया। पुलिस ने जुवेनाइल जस्टिस एक्ट की धारा 75 के तहत केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।
मामले ने मंगलवार को उस वक्त तूल पकड़ा जब इस हैरतअंगेज घटना का वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुए। इसमें दिख रहा है कि छात्राओं को बेसमेंट में बंद किया गया है। बच्चियों को बेसमेंट में बैठाने के पीछे स्कूल का तर्क था कि उनकी जून महीने की फीस अब तक जमा नहीं की गई है। बता दें कि स्कूल में 2000 से ज्यादा छात्राएं पढ़ती हैं और मासिक फीस 3000 रुपये है।

मामले में सेक्रेटरी और एजुकेशन डायरेक्टर को सभी तथ्यों के साथ तलब किया है।
 -अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, दिल्ली

मैं भी यह जानकर चौंक गया। मैंने फौरन अधिकारियों को इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने के लिए कहा है।
-मनीष सिसोदिया, उपमुख्यमंत्री, दिल्ली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share