कसम परेड के बाद 155 जवान बने भारतीय सेना के अंग
Thursday, October 18, 2018
Breaking News
Home » उत्तराखंड » कसम परेड के बाद 155 जवान बने भारतीय सेना के अंग
कसम परेड के बाद 155 जवान बने भारतीय सेना के अंग

कसम परेड के बाद 155 जवान बने भारतीय सेना के अंग

अल्मोड़ा। भारतीय सेना के कुमाऊॅ और नागा रजिमेंट के गौरवशाली इतिहास में एक अध्याय और जुड़ गया है। यह बात प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आज सोमनाथ मैदान में 155 भारतीय सेना के सिपाईयों के शपथ ग्रहण समारोह के अवसर पर कही। उन्होंने कहा कि देेशभक्ति से ओतप्रोत बैंडधुन पर कदमताल करते इन सैनिकों ने अनुशासन का पाठ पढते हुये एक मिशाल पैदा की। उन्होंने इस यादगार क्षण के अवसर पर कहा कि हमारे इन सैनिकों ने हमेंशा ही एकता अखण्डता को बनाये रखने के लिये सीमाओं में सजग पहरी के रूप में काम किया। मुख्यमंत्री ने कहा सेनिक बनकर देश सेवा करना एक पुण्य का काम है। सेना का जीवन कठिन होता। उन्होंने जवानों को सम्बोधित करते हुये कहा कि जिस कठिन परिश्रम के साथ आप लोगों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया उसी कडी मेहनत से काम कर देश सेवा के लिये तत्पर रहकर काम करना होगा।

इस भव्य परेड की सलामी लेने के बाद  मुख्यमंत्री ने कहा कि आज इस शपथग्रहण समारोह में 155 जवानों को शपथ दिलायी गयी जिसमें 67 जवान उत्तराखण्ड के थे शेष 88 जवान महाराष्ट्र,बिहार, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाण, राजस्थान व अन्य राज्यों के थे। इस समारोह मे उत्कृष्ट प्रर्दशन करने वाले रिक्रूट को विशेष मेडल से सम्मानित किया गया। जिनमें महेश ऐरी, रोहित चिलवाल, प्रदीप मेहरा, विशाल सिंह, अतुल जोशी, रमेश कुमार, पंकज सिंह सम्मिलित थे।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि इन जवानों ने देश की सेवा के लिए सेना में शामिल होकर अपने जीवन का महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उनके पिता स्व. प्रताप सिंह रावत भी सैनिक थे और उन्होंने द्वितीय विश्व युद्व में अपनी सक्रिय भूमिका निभाई थी। इसी कारण वे भी सेना की गौरवशाली परंपरा से वाकिफ है। इस देवभूमि के सैनिकों ने अपने त्याग और साहस के बल पर प्रदेश और देश का नाम रोशन किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share