Home » चंडीगढ़ » चंडीगढ़ अपराध: सेक्टर 22 गुरुद्वारे में लैब टेक्नीशियन को गोली मार अज्ञात फ़रार
चंडीगढ़ अपराध: सेक्टर 22 गुरुद्वारे में लैब टेक्नीशियन को गोली मार अज्ञात फ़रार
चंडीगढ़ अपराध: सेक्टर 22 गुरुद्वारे में लैब टेक्नीशियन को गोली मार अज्ञात फ़रार

चंडीगढ़ अपराध: सेक्टर 22 गुरुद्वारे में लैब टेक्नीशियन को गोली मार अज्ञात फ़रार

रजीत शम्मी चण्डीगढ।

वी केयर फॉर यू और हाईटेक कहलाने वाली चंडीगढ़ पुलिस शहर में हो रही गोलीबारी के चलते शातिर अपराधियों को पकड़ने में नाकाम साबित हो रही है।अपराधी लगातार शहर में गोलीबारी की वारदातों को अंजाम देकर आराम से फरार हो जाते है।  लेकिन पिछले दिनों से हुई गोलीबारी के चलते पुलिस ने अभी तक कोई भी मामले को नहीं सुलझाया। रविवार दशहरे वाले दिन अल सुबह करीब 5:30 बजे सेक्टर 22 स्थित पंजाब के फूड लैब टेक्नीशियन को शातिर अपराधियों द्वारा गोली मार कर जख्मी कर दिया और मौके से फरार हो गए। जिसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी गई थी। जख्मी हुए फूड लेब टेक्नीशियन को इलाज के लिए पीजीआई में भर्ती कराया गया है। यहा उसका इलाज चल रहा है। जिसकी पहचान सेक्टर 22 के रहने वाले 48 साल के अमरीक सिंह के रूप में हुई है। जानकारी के अनुसार पता चला कि जख्मी हुआ फूड लैब टेक्नीशियन अमरीक सिंह अपने परिवार समेत सेक्टर 22 में रहता है। और खरड़ स्थित फ़ूड लैब में लैब टेक्नीशियन ग्रेड 2 के पद पर कार्यरत है। हर रोज की तरह अमरीक सिंह अपने घर से सेक्टर 22 गुरुद्वारे में माथा टेकने के लिए जाता है। रविवार को अमरीक सिंह अलसुबह करीब 5:00 बजे अपने घर से गुरुद्वारे के लिए माथा टेकने के लिए गया था। जैसे ही वह अपने घर वापिस आ रहा था तो घर की कुछ दूरी गली के पास पहुंचा तो पीछे से शातिर अपराधी ने दो फायर कर दिए। एक फायर अमेरिका सिंह के कमर के नीचे थाई के पास लगा। जबकि एक जिंदा कारतूस पुलिस को बरामद हुआ है। मौके की सूचना पाते ही डीएसपी सेंट्रल कृष्ण कुमार अपनी टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और मौके का जायजा लिया। वहीं पुलिस ने मामले की पड़ताल करते हुए अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। और आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाल रही है।

शहर में हुई गोलीबारी से हत्या और हत्या के प्रयास के मामले कोई भी अभी तक नहीं सुलझे।

केस नंबर एक

सोपू पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं लॉरेंस बिश्नोई के करीबी गुरलाल बराड़  की गई हत्या के मामले में पुलिस द्वारा अभी तक मामले को सुलझा नहीं पाई है। पुलिस ने मामले में अपराधियों को मोटरसाइकिल का इंतजाम करने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया है। जबकि मामले में हत्यारोपी पुलिस की पकड़ से बाहर है।

क्या था मामला।

10 अक्टूबर की देर रात जब गुरलाल बराड़ इंडस्ट्रियल एरिया स्थित एक क्लब के बाहर अपनी फॉर्च्यूनर कार में बैठा हुआ था। तभी वहां 3 आरोपी शातिर युवकों द्वारा गुरलाल बराड़ पर 7 फायर किए। गुरलाल को 3 गोलियां लगी थी। पुलिस जांच में सामने आया था कि गुरलाल का जब सोशल अकाउंट चेक किया तो उसे मालूम हुआ कि वह गैंगस्टर लोरेश विशनोई का करीबी था। गुरलाल की हत्या के बाद लोरेश विशनोई ग्रुप व दविंदर बबीहा ग्रुप में फेसबुक पर एक दूसरे ग्रुप के मेंबरों को जान से मारने की धमकियां भी दी गई थी।

केस नंबर दो।

जीरकपुर के रहने वाले टिक टॉक स्टार सौरव गुर्जर 11 अक्टूबर को सेक्टर 9 एसके बार आया था। क्लब के अंदर डांस फ्लोर पर नाचने को लेकर उनको कुछ युवकों से नोकझोंक हो गई। इसके बाद जब वह क्लब के बाहर निकल कर किसी से फोन पर बात कर रहा था। तभी युवकों ने उस पर फायरिंग कर दी। इससे एक गोली सौरव की जाघ पर लगी। वह लहूलुहान होकर जमीन पर गिर गया। क्लब के कर्मी स्टाफ तुरंत उसे पीजीआई लेकर पहुंचे थे। और भर्ती कराया गया था पुलिस को मौके से एक खोल बरामद हुआ था। पुलिस द्वारा आरोपियों की पहचान करने के बावजूद भी पकड़ नहीं पाई है।

केस नंबर 3

गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के करीबी मोंटी शाह 11 अक्टूबर देर शाम प्रॉपर्टी डीलर सोनू शाह हत्याकांड के मुख्य गवाह के भाई प्रवीण व साथी तीरथ को जान से मारने के लिए सेक्टर 45 उनके कार्यालय मैं पहुंचा था। परवीन और तीरथ ने किसी तरह छिप कर अपनी जान बचाई। बुडैल निवासी मोटी शाह को खुलेआम पिस्टल लेकर कार्यालय पहुंचने की वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर मोंटी शाह बीते रविवार देर शाम दोनों हाथों में पिस्टल लहराते प्रवीण और तीरथ को मारने के लिए उनके कार्यालय पहुंचा था। जानकारी के मुताबिक सितंबर 2019 में सोनू शाह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मामले में तीरथ और प्रवीण गवाह है।पुलिस ने मामले में मोटी शाह पर 50 हज़ार रुपए का इनाम भी रखा है।  जबकि अभी तक गिरफ्त से बाहर है।और लेकिन पुलिस द्वारा अभी मामला नहीं सुलझा। लेकिन पुलिस ने मामले को लेकर मोंटी शाह को पनाह देने वाले तीन आरोपियों को राजस्थान के हनुमानगढ़ से गिरफ्तार किया था।

केस नंबर 4

19 अक्टूबर रात 8:30 बजे सेक्टर 25 स्थित संदीप पर गोलीबारी कर जख्मी कर दिया गया था। लेकिन फरार चल रहे आरोपियों को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नहीं कर सकी है। जानकारी के मुताबिक पता चला है कि 19 अक्टूबर को रात करीब 8:30 बजे संदीप कपड़े की दुकान के अंदर बैठा था इसी दौरान दो शातिर आए। और संदीप पर फायरिंग कर दी संदीप के एक गोली कंधे पर और एक सिर के पास लगी थी और शातिर मौके से फरार हो गए थे। जख्मी हालत में संदीप को इलाज के लिए पीजीआई में भर्ती कराया था। यहां उसका इलाज चल रहा।  पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए आरोपियों के खिलाफ हत्या का प्रयास का मामला दर्ज कर लिया था। लेकिन 6 दिन बीत जाने के बाद पुलिस के हाथ खाली हैं। मामला आपस में रंजिश का था। मामले में जख्मी हुए संदीप द्वारा वीडियो वायरल किया गया था। जिसमें सेक्टर 24 चौकी इंचार्ज के खिलाफ आरोप लगे थे। और पुलिस प्रशासन द्वारा चौकी इंचार्ज को सस्पेंड कर दिया था।

केस नंबर 5

सेक्टर 23 में महिला टीचर की हत्या का मामला अभी तक नहीं सुलझा।

जानकारी के मुताबिक 13 सितंबर को सेक्टर 23 स्थित आरोपी पति द्वारा अपनी पत्नी की हत्या करने का आरोप लगा था। पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए आरोपी पति के खिलाफ  हत्या  का मामला दर्ज कर लिया था। और पति अभी तक पुलिस की पकड़  दूर है।

क्या था मामला।

सेक्टर 23 का रहने वाले टीचर आरोपी मनदीप अपनी टीचर पत्नी ज्योति और 13 व 9 साल के बेटे के साथ सरकारी क्वार्टर में रह रहा था। मनदीप सरकारी स्कूल के  सेक्टर 47 मे टीचर है। जबकि उसकी पत्नी राम दरबार के करसान में सरकारी स्कूल टीचर थी।  13 सितंबर को उसने अपने दोनों बेटों को कहा कि उनकी मम्मी के कमरे में नहीं जाना। उन्हें कोरोना हो गया है।  14 सितंबर को वह बच्चों को लेकर पंजाब में माथा ठिकाने के लिए ले गया। और नीलो  नहर के पास उसने गाड़ी गर्म होने का बहाना लगाकर अपने 13 साल के बेटे को गाड़ी से बाहर निकाला। और नहर में फेंक दिया और छोटे बेटे को साथ लेकर फरार हो गया।  किस्मत से 13 साल का बेटा पेड़ की टहनी पकड़ कर बच गया। लोगों ने देखा और पुलिस को सूचित किया था। सूचना पर पंजाब पुलिस उसे लेकर चंडीगढ़ आई और जब पुलिस उनके घर पहुंची तो उनकी मम्मी मौत की नींद में सो रही थी। जिसके बाद थाना 17 पुलिस ने आरोपी पति मनदीप के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था। आरोपी पति अपनी पत्नी की ज्वेलरी भी लेकर फरार हो गया था। लेकिन आरोपी पति अभी तक पुलिस की पकड़ से दूर है। पुलिस मामले को सुलझा नहीं पाई।

केस नंबर 6

शादी में दुल्हन की मां का लाखों रुपए से भरा बैग लेकर फरार हुआ शातिर पुलिस की पकड़ से दूर। मामला सीसीटीवी कैमरे में हुआ था कैद।

बीते दिन सेक्टर 22 होटल में शादी समारोह के दौरान एक शातिर दुल्हन की मां का लाखों रुपए से भरा बैग चोरी कर ले गया था। जिसकी सूचना पुलिस को दी गई थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले की पड़ताल करते हुए अज्ञात शातिर के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी।  और आरोपी सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया था। जानकारी के अनुसार सेक्टर 49 पीजीआई सोसाइटी में रहने वाली पीड़िता शिकायतकर्ता उषा ठाकुर ने पुलिस को बताया कि बीते वीरवार को उनकी बेटी की शादी का प्रोग्राम सेक्टर 22 के होटल की बेसमेंट में चल रहा था। उसी दौरान दोपहर करीब 2:00 बजे उन्होंने दूल्हे दुल्हन के सोफे के पीछे स्टेज पर अपना पर्स रखकर फोटो करवाने लग गई। तो फोटो करवाने के बाद पर्स चेक किया तो गायब मिला। जिसके बाद हड़कंप मच गया। होटल स्टाफ से पूछताछ की तो नहीं मिला। जिसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी गई थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को खंगाला तो होटल में पता चला कि एक आरोपी शातिर जिसने ऑरेंज कलर की शर्ट और ब्लू रंग की जींस और मुंह पर मास्क लगा रखा है। और पर्स ले जाता हुआ दिखाई दे रहा है । लेकिन शातिर पुलिस की पकड़ से बाहर है। मामला नहीं सुलझा।
[9:02 PM, 10/25/2020] Dad: चंडीगढ़ अपराध: सेक्टर 22 गुरुद्वारे में लैब टेक्नीशियन को गोली मार अज्ञात फ़रार

Check Also

Will all the trains of Indian Railways be closed again from December 1

1 दिसंबर के बाद से फिर से बंद हो जाएंगी भारतीय रेलवे की सभी ट्रेनें?, ये खबर जरूर पढ़ लें

नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर एक मैसेज शेयर किया जा रहा है जिसमे लिखा है …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel