ब्रेकिंग न्यूज़
Home » संपादकीय »  कानून व्यवस्था पर सवाल 
 कानून व्यवस्था पर सवाल 
editorial news

 कानून व्यवस्था पर सवाल 

सिटी ब्यूटीफुल चंडीगढ़ में कानून व्यवस्था की स्थिति संतोषजनक नहीं कही जा सकती। पंजाब-हरियाणा की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ संघीय क्षेत्र है और इसकी कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी भी केंद्रीय सरकार के पास है। पिछले कुछ अरसे में शहर में स्नैचिंग, वाहन चोरी की वारदातें बढ़ी हैं और अब हाल ही में मंदिरों में चोरी की घटनाएं सामने आई हैं। इन घटनाओं से इस शहर की जनता खुद को असुरक्षित महसूस करने लगी है। सड़कों पर और मोहल्लों में स्नैचिंग की वारदातें तो हो रही थीं।

अब स्नैचर के हौंसले इतने बुलंद हो गए हैं कि वे घरों के सामने और पार्कों के अंदर भी वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। स्थिति इस कदर बिगड़ चुकी है कि पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने चंडीगढ़ की एसएसपी नीलांबरी जगदले को कोर्ट में तलब किया और उनसे स्थिति सुधारने के लिए उठाए जा रहे कदमों के बारे में जानकारी मांगी। पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल, पूर्व सांसद सत्यपाल जैन व पूर्व सांसद हरमोहन धवन जैसे वरिष्ठ नेता भी कानून व्यवस्था की स्थिति पर चिंता जता रहे हैं।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता व पूर्व रेलमंत्री पवन कुमार बंसल ने लोगों में आत्मविश्वास बहाल करने के लिए चंडीगढ़ प्रशसन व पुलिस से तत्काल प्रभावी कार्रवाई करने को कहा है। बंसल का कहना है कि कानून व्यवस्था बद से बदतर होती जा रही है। शहर में मंदिर में एक के बाद एक चोरी की घटनाओं ने जनता को झकझोर कर रख दिया है। चोर गिरोह धर्म स्थलों को निशाना बना रहे हैं और पुलिस व प्रशासन हाथ पर हाथ धरे बैठा है। कभी अपराध मुक्त कहा जाने वाला यह शहर अब ‘अपराधों का हब  बनता जा रहा है।

बंसल ने कहा है कि प्रशासन को गंभीरता से कार्य करते हुए शहर को अपराधी तत्वों से मुक्त बनाने के लिए कड़े पग उठाने चाहिएं।  शहर में ट्रैफिक व्यवस्था भी लगातार खराब होती जा रही है। प्रमुख चौकों पर सुबह और शाम ट्रैफिक जाम लगना सामान्य बात बनकर रह गया है। लोग घंटों ट्रैफिक जाम में फंसे रहते हैं।

यहां तक कि एम्बुलैंस गाडिय़ों को भी जाम से  निकलने में बड़ी मुश्किल होती है और रोगियों की जान सांसद में पड़ी रहती है। गाडिय़ों में ओवर लोडिंग और इनकी रफ्तार पर भी कोई नियंत्रण नहीं किया जा सका। ऑटो चालक बाइक चालक व अन्य वाहनों के चालक भी गति सीमा की परवाह किए बगैर अंधाधुंध वाहन दौड़ाते हैं जिससे दुर्घटनाएं बढ़ रही हैं।  चंडीगढ़ प्रशासन को ट्राईसिटी के अधिकारियों के साथ तालमेल बनाकर आपराधिक तत्वों पर नकेल कसने की योजना बनानी चाहिए। देश के सबसे सुंदर और व्यवस्थित शहर में कानून व्यवस्था एक आदर्श होनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Share