ब्रेकिंग न्यूज़
Home » National » सिंगल ब्रैंड रीटेल व कंस्ट्रक्शन में सौ फीसदी एफडीआई को मंजूरी-

सिंगल ब्रैंड रीटेल व कंस्ट्रक्शन में सौ फीसदी एफडीआई को मंजूरी-

नई दिल्ली (अप्रस)। फॉरन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट (एफडीआई) के नियमों में बदलावों को बुधवार को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई। इसमें सिंगल ब्रैंड रीटेल में ऑटोमेटिक रूट से 100 प्रतिशत एफडीआई को मंजूरी दी गई है। पहले 49 प्रतिशत तक निवेश की अनुमति थी, उसके ऊपर के निवेश के लिए सरकार की इजाजत चाहिए होती थी। एविएशन, कंस्ट्रक्शन सेक्टर में भी एफडीआई के नियमों में ढील दी गई है। कंस्ट्रक्शन सेक्टर में भी ऑटोमेटिक रूट से 100 प्रतिशत विदेशी निवेश को मंजूरी दे दी गई है। वहीं एयर इंडिया के लिए 49 प्रतिशत निवेश की मंजूरी दी गई है। माना जा रहा है कि इससे एयर इंडिया में विनिवेश करने में आसानी होगी।नई दिल्ली (अप्रस)। फॉरन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट (एफडीआई) के नियमों में बदलावों को बुधवार को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई। इसमें सिंगल ब्रैंड रीटेल में ऑटोमेटिक रूट से 100 प्रतिशत एफडीआई को मंजूरी दी गई है। पहले 49 प्रतिशत तक निवेश की अनुमति थी, उसके ऊपर के निवेश के लिए सरकार की इजाजत चाहिए होती थी। एविएशन, कंस्ट्रक्शन सेक्टर में भी एफडीआई के नियमों में ढील दी गई है। कंस्ट्रक्शन सेक्टर में भी ऑटोमेटिक रूट से 100 प्रतिशत विदेशी निवेश को मंजूरी दे दी गई है। वहीं एयर इंडिया के लिए 49 प्रतिशत निवेश की मंजूरी दी गई है। माना जा रहा है कि इससे एयर इंडिया में विनिवेश करने में आसानी होगी। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि एयरइंडिया की बडी हिस्सेदारी भारतीय नागरिक के हाथों में बनी रहेगी। सूत्र ने यह भी बताया कि एयर इंडिया मंत्रिमंडल ने सरकारी प्रस्ताव को मंजूरी भी दे दी है।बता दें कि 2014 में सिंगल ब्रैंड रीटेल में 100 प्रतिशत एफडीआई को मंजूरी दी गई थी, तब नाइक जैसी कई बड़ी ग्लोबल कंपनियों ने भारत का रुख किया था। माना जा रहा है कि ऑटेमैटिक रूट से इजाजत मिलने के बाद अब बाकी कई कंपनियां भी भारत की तरफ आकर्षित होंगी क्योंकि अब क्लियरंस लेने में आसानी होगी। इससे विदेशी कंपनियों के लिए काम करने का बेहतर माहौल तैयार होगा जिससे अर्थव्यवस्था को फायदा होगा और नौकरियों के अवसर भी पैदा हो सकते हैं। फिलहाल मल्टी ब्रैंड रीटेल के बारे में कुछ नहीं कहा गया है क्योंकि उसका कई राजनीतिक पार्टियों और व्यापार संगठनों द्वारा विरोध किया जा चुका है।

 

विरोध शुरू सिंगल ब्रैंड रीटेल में ऑटोमैटिक रूट से 100 प्रतिशत एफडीआई की इजाजत दी जाने का विरोध शुरू हो गया है। ऑल इंडिया ट्रेडर्स कंफेडेरशन (महासंघ) (ष्ट्रढ्ढञ्ज) ने इसका विरोध करते हुए कहा है ऐसा करके बीजेपी ने अपना चुनावी वादा तोड़ा है क्योंकि इससे बाहर की बड़ी कंपनियां भारत की मार्केट पर कब्जा कर लेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Share